जाकिर ने लगाया NIA पर आरोप, कहा- मुसलमान होने के नाते फंसा रही है एजेंसी

नई दिल्ली। जाकिर नाईक ने NIA पर आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे साथ ऐसा बर्ताव मुसलमान होने के नाते किया जा रहा है। दरअसल जाकिर नाईक पर आतंकवाद को बढ़ावा देने, मनी लॉर्न्डिंग और विवादस्पद इस्लामी उपदेश देने का आरोप लगा है। इनआईए ने इंटरपोल को जाकिर नाइक को रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने को कहा था। जिस पर नाईक ने कहा था कि वो भारत से भागकर सऊदी अरब की नागरिकता लेकर रह रहा हैं।

 zakir naik, interpol, nia, dhaka attack, islamic research foundation
zakir naik interpol

बता दें कि जाकिर नाईक 2016 में हुए ढाका हमले के बाद राडार पर आया। जिसमें आतंकियों का कहना था कि उन्होंने ये हमला जाकिर नाईक के भाषण से प्रेरित होकर दिया है। जिसके बाद नाईक भारत से भागकर सऊदी में जाकर बस गया। नोटिस जारी किए जाने की बात पर नाईक ने इंटरपोल से कहा कि जांच ऐजंसियां उनको सिर्फ इस लिए फंसा रही है कि वो एक मुसलमान है। नाईक का कहना है कि उनके भाषण आतंरकवाद को नहीं बल्कि शांति को बढ़ावा देने वाले हैं।

वहीं नाईक ने अपनी याचिका को वापस करने के लिए भारतीय जेलों के हालात खराब और मानव अधिकारों का उल्लंघन का हवाला दिया। नाईक का कहना है कि उन्हें भारत की जेल में कई तरह की यातनाओं का सामना करना पड़ सकता है। रेड कॉर्नर नोटिस का मतलब है कि नाईक को इस नोटिस के जरिए भगोड़ा घोषित कर दिया जाएगा। जिसके बाद उसे किसी भी एजेंसी द्वारा गिरफ्तार किया जा सकेगा।

साथ ही इंटरपोल के मुताबिक पहले नाईक के खिलाफ 10 महीने जांच की गई उसके बाद उसके खिलाफ संपर्क किया गया। जिसके बाद नाईक पर सभी आरोप साबित हुए। नाईक पर आरोपों के चलते सरकारी संगठन उसके पीस टीवी को भी बैन कर दिया। पिछले साल नाईक के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियों के तहत मामला दर्ज किया गया है। नाईक के खिलाफ गैरजमानती वारंट भी जारी है। इसके बाद एनआईए ने इंटरपोल से रेड कॉर्नर जारी करने को कहा है।