शनिदेव के बारे में ये बाते जान आपको मिलेगा लाभ

नई दिल्ली। शनिवार का दिन शनिदेव का दिन माना जाता है, लेकिन शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा और पीपल के पेड़ की पूजा करना भी शुभ और अच्छा माना जाता है। साथ ही शनि को ग्रहों की पूजा में भी विशेष स्थान मिलता है क्योंकि शनि एक ग्रह भी है। शनिदेव की पूजा अक्सर लोग डर के कारण करते है ताकि उनके जीवन में किसी तरह की कोई परेशानी ना हो, लेकिन आपको बता दें की ऐसा बिलकुल भी नहीं है। शनि देव कर्म प्रधान देवता हैं और वो कर्मो के मुताबिक फल देते हैं। ता चलिए आपको बताते हैं शनिदेव से जुड़ी ये 7 बातें-

– शनि देव सूर्यदेव के पुत्र हैं और शनि की मां का नाम छाया है। शनि को मंदा, कपिलाक्क्षा और सौरी के नाम से भी जाना जाता है।

– शनि देव उन नव ग्रहो में से एक हैं जिनका इंसान के जीवन पर असर पड़ता है। ऐसी मान्यता है की शनि किसी भी इंसान के बुरे प्रभावों को कम कर देते हैं।

– शनि देव को कभी बुरे ग्रहो में नहीं गिना जाता क्योंकि शनि किसी भी तरह से इंसान को नुकसान नहीं पहुंचाते।

– शनि देव को कठिन परिश्रम, अनुशासन , निर्णय लेने की क्षमता आदि गुणों के लिए जाना जाता है। शनि इंसान में भी इन्ही गुणों को देखते हैं और उन्हें फल देते हैं। साथ ही जो लोग ऐसा नहीं करते उन्हे अपनी जिंदगी में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

– शनि देव की पूजा करने के लिए उनका सरसो के तेल से अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से आपको हर तरह की कठिनाइयों से मुक्ति मिलती है।

– शनि देव को कर्म का फल देने वाले देवता के रुप में भी जाना जाता है क्योंकि वो इंसान के कर्मो के अनुरुप ही उसे फल देते हैं।

– शनि देव, शंकर भगवान के परम भक्त हैं।