योगी ने भरी दूसरे चरण में हुंकार

शाहजहांपुर। यूपी के शाहजहांपुर मे दूसरे चरण में होने वाले चुनाव मे प्रचार के आखिरी दिन बीजेपी स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ ने एक जनसभा को संबोधित किया। ये जनसभा ददरौल विधानसभा सीट से प्रत्याशी मानवेंद्र सिंह के समर्थन में की गई। जहां योगी आदित्य नाथ ने उनके समर्थन में जनता से वोट मांगे। मंच से योगी आदित्यनाथ ने बसपा सपा पर जमकर हमला बोला।

योगी आदित्य नाथ ने कहा कि काशीराम ने गरीबो और दलितों की आवाज बुलंद की अब ये सबको पता है कि आवाज कौन दबा रहा है। वही सपा पर बोलते हुए कहा कि अखिलेश कहते है कि उन्होंने चुनाव मे 78 मुसलमानों को टिकट दिया जबकि 300 पर तो वह खुद लड रहे हैं। वहीं आजम खान का नाम लिए बगैर कहा कि रामपुर का एक बत्तमीज मंत्री पुरे प्रदेश में सफाई का ठेका लेता है फिर भी हर तरफ गंदगी है।

योगी आदित्य ने बीजेपी प्रत्याशी के समर्थन मे जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि 28-29 जनवरी से चुनाव प्रचार मे लगा हूँ जहां भी जाता हूँ एक उत्साह दिखता है। जो परिवर्तन की ओर इशारा कर रहा है। चुनाव प्रचार से ये पता चल रहा है कि सपा बसपा के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ के निशाने पर मायावती ज्यादा दिखी। कहा कि काशीराम ने अपनी पुरी जिंदगी गरीबो और दलितों की आवाज बुलंद करने मे लगा दी और अब उनकी आवाज कौन दबा रहा है या किसी से छुपा नही है। मायावती ने लूट हत्या करने वालो को टिकट देकर बता दिया कि कौन कितना साफ छवी का है। दोनो ही पार्टियों ने अपने घोषणा पत्र मे विकास नाम नही है।

बहन जी का अपना ही विकास हो जाए यही बहुत है। जनता का क्या विकास करेगी। सपा बसपा ने गरीब किसानो को बदहाल किया है। जो आत्महत्याएं तक करने पर मजबूर हो गए। सपा बसपा ने अगर महिलाओ को गंभीरता से लिया होता तो आज प्रदेश मे दंगे नही होते। दंगे की शुरुआत छेड़खानी से होती है। दंगे मे सिर्फ गरीब मारा गया। इसके अलावा आजम खान का नाम लिए बगैर कहा कि रामपुर का एक बत्तमीज मंत्री है जो प्रदेश मे सफाई का ठेका लेता है और उसके बाद बाद भी पूरे प्रदेश मे गंदगी दिखती है।

आज योगी आदित्य नाथ की जनसभा मे मंच पर केंद्रिय मंत्री कृष्णा राज, पूर्व केंद्रीय ग्रह राज्यमंत्री स्वामी चिनमयांननद, मौजूद रहे। खास बात ये है कि आज इस जनसभा मे साधू संत भी भारी संख्या मे मौजूद रहे। आप बता दें इससे पहले शाहजहांपुर मे योगी आदित्य नाथ की हुई जनसभाओं मे साधू संत नही पहुचे थे।

अभिषेक सिंह चौहान, संवाददाता