पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए योगी कल रखेंगे सीएम हाउस में दावत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सत्ता का वनवास खत्म होने के बाद भारतीय जनता पार्टी अब अपने कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित करने में जुटी है। इसकी कमान स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संभाली है। वह कल नवरात्रि के मौके पर अपने सरकारी आवास पांच कालीदास मार्ग में शाम छह बजे 150 कार्यकर्ताओं के साथ भोजन करेंगे। इस दौरान कई मंत्री और विधायक भी शामिल रहेंगे। मुख्यमंत्री के भोज में नवरात्रि को देखते हुए फलाहार की भी व्यवस्था की जाएगी।

 

मुख्यमंत्री के इस भोज में वो सभी कार्यकर्ता मौजूद होंगे जिन्होंने चुनाव के दौरान दिन रात एक कर दिया और पार्टी की जीत में सहयोग दिया। जिनकी बदौलत पार्टी के रणनीतिकारों ने पूरे प्रदेश में मॉनीटरिंग की और कमी मिलने पर उसे तत्काल दुरूस्त किया गया। कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत और जोश की बदौलत ही पार्टी विधानसभा चुनाव में दमदार प्रदर्शन करने में कामयाब हुई। इसलिए अब जीत के जश्न के तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं उनका उत्साहवर्द्धन करते हुए भोज की दावत दे रहे हैं।

दरअसल भाजपा के लिए उ.प्र. विधानसभा चुनाव बेहद प्रतिष्ठा का विषय था। इस चुनाव में सभी की निगाहें लगी हुईं थी कि पार्टी लोकसभा चुनाव का अपना प्रदर्शन दोहरा पाएगी या नहीं। विकास के दावों से शुरू हुआ यह चुनाव सातवें चरण आते-आते भाजपा बनाम अन्य दलों में तब्दील हो गया। सभी की पुरजोर कोशिश रही कि भाजपा को किसी भी सूरत में सरकार बनाने से रोका जाए, लेकिन शीर्ष नेतृत्व ने जहां बेहद सधी हुई रणनीति बनायी, वहीं कार्यर्ताओं ने उसे हुबहू धरातल पर उतारने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

इसी का परिणाम था कि न तो समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस का गठबंधन हुआ और न ही मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सहित दूसरे दल भाजपा के आगे टिक पाए। एक निजी समाचार पत्र से बातचीत में राजनैतिक विश्लेषकों ने कहा कि दरअसल राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, राष्ट्रीय सहसंगठन महामंत्री शिवप्रकाश, प्रदेश प्रभारी ओम माथुर, प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य, प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल, प्रदेश महामंत्री अशोक कटारिया, आईटी सेल प्रमुख संजय राय सहित अन्य रणनीतिकार अच्छी तरह जानते हैं कि अगर लोकसभा चुनाव 2019 में केन्द्र की सत्ता में लौटना है तो न सिर्फ मोदी और योगी सरकार को बेहतरीन प्रदर्शन करना होगा, बल्कि संगठन की मजबूती और जोश भी बरकरार रखना बेहद जरूरी है।

इसके लिए कार्यकर्ताओं को संगठित और उनका उत्साह बनाये रखने पर अभी से ध्यान दिया जा रहा है। पार्टी अच्छी तरह जानती है कि कार्यकर्ताओं के बगैर कोई भी जंग जीतना असम्भव है। यही वजह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने जीत के बाद जनता के साथ पार्टी कार्यकर्ताओं को बधाई दी। वहीं केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी जब बीते दिनों लखनऊ आये तो उन्होंने जीत का सारा श्रेय कार्यकर्ताओं को दिया। इसलिए पार्टी संगठन से जुड़े हर रणनीतिकार और उनकी टीम सहित कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित करते हुए भविष्य की अपनी सियासी जमीन और मजबूत कर रही है।