सुस्त अधिकारियों को योगी सरकार की तरफ से मिलेगा उम्र से पहले रिटायरमेंट

सूबे में सत्ता पलट होने के बाद से ही योगी सरकार लगातार एक्शन में है। आए दिन सूबे में योगी सरकार अपराधियों पर नकेल कसने के लिए नए नए कदम उठा रही है। वही कानून प्रशासन को भी सख्त करने के लिए आए दिन योगी सरकार द्वारा पुलिस प्रशासन में फेरबदल हो रहे हैं और अब देश के सबसे बड़े सूबे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुस्त कर्मचारियों और अधिकारियों को उम्र से पहले ही रिटायर करने का फैसला किया है। सरकार ने 50 साल की उम्र से पहले ही जो अधिकारी सुस्त पाया जाएगा उसका रिटायरमेंट करने का फैसला किया है।

अधिकारियों के रिटायरमेंट को लेकर योगी सरकार गंभीर है। और अब योगी सरकार केंद्र की राह पर चलने लग गई है। सरकारन फैसला किया है कि जो भी कर्मचारी या अधिकारी सुस्त पाया जाएगा उन्हें रिटायरमेंट दे दिया जाएगा। योगी सरकार ने इसके लिए कार्मिक विभाग को आदेश भी जारी कर दिया है। जानकारी के अनुसार सुस्त पाए कर्मचारी और अधिकारी की लिस्ट तैयार करने के बाद नोटिस जारी किया जाएगा। वही इस नोटिस में रिटायरमेंट का कोई भी कारण नहीं बताया जाएगा।

कर्मचारियों और अधिकारियों को जारी किए जाने वाले नोटिस में तीन महीने का नोटिस पीरियड दिया जाएगा और इन नोटिस में रिटायरमेंट का कोई भी कारण नहीं बताया जाएगा। वही इसके बाद कर्मचारियों या अधिकारियों को कार्यमुक्त कर दिया जाएगा। आपको बता दें कि केंद्र में मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान अधिकारियों को कंपलसरी रिटायरमेंट दे दिया है। जानकारी के अनुसार आधा दर्जन के करीब आईएएस अधिकारियों को केंद्र की मोदी सरकार की तरफ से रिटायरमेंट मिल चुका है।