योगीराज में खत्म हुआ शराब माफिया का काला कारोबार

हरदोई। उत्तर प्रदेश मे योगी सरकार के आते ही दिन पर दिन प्रशासन को शराब के काले कारोबार पर रोज एक नई सफलता मिल रही है, इसी कड़ी में बुधवार को हरदोई पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। मुखबीर से मिली सूचना में पुलिस अधीक्षक विपिन मिश्रा के निर्देश पर हुई छापेमारी में पुलिस ने हरियाणा की अवैध शराब का जखीरा बरामद किया है। ये जखीरा पूर्व ब्लॉक प्रमुख जेपी गुप्ता का है। जेपी पिहानी ब्लॉक प्रमुख रह चुके हैं। अब उनकी पत्नी सरिता गुप्ता ब्लॉक प्रमुख हैं। जेपी के नाम चार, उनकी पत्नी सरिता, पुत्र और भाई वेद प्रकाश के नाम करीब आठ शराब के ठेकों के लाइसेंस हैं। जानकारी के अनुसार जेपी गुप्ता पिछले करीब 20 साल से अवैध शराब का गोरख धंधा चला रहे हैं। जेपी गुप्ता पर दर्जनभर मामले दर्ज हैं। पुलिस ने पिछले साल 26 नवंबर की रात जेपी के पिहानी बस स्टैंड वाले मकान से हरियाणा की अवैध शराब, होलोग्राम और ढक्कन पकड़े थे। जिसके बाद पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई।

पुलिस अधीक्षक विपिन मिश्रा को मुखबीर से जानकारी मिली थी की बावन रोड पर एक ईंट भट्टे के पास बोलेरो और पिकअप सवार कुछ लोग हरियाणा की अवैध शराब को ठिकाने लगाने में जुटे हुए हैं। इस बात को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक ने तत्काल पुलिस फोर्स को मौके पर भेजकर छापेमारी कराई तो पुलिस को बहुत बड़ा अवैध शराब का जखीरा बरामद हुआ। जिस दौरान दो युवकों को मौके से गिरफ्तार किया गया है जिनका नाम गौरव गुप्ता और लाल सिंह है। गिरफ्तार हुए युवकों के पास से पुलिस ने एक बोलेरो और एक पिकअप जब्त की है साथ ही पुलिस ने करीब 220 पेटी व 10560 पैकिट अबैध शराब भी जब्त की है।

पुलिस ने पूर्व प्रमुख जे पी गुप्ता समेत 3 लोगों पर मामला दर्ज किया है हालांकि जेपी गुप्ता अभी फरार चल रहा है। जिसके लिए पुलिस से टीमें गठित की है। जेपी गुप्ता कई बार जेल भी जा चुका है, मगर अब तक सत्ता में अच्छी पकड़ होने के कारण पुलिस जेपी के ऊपर कोई सख्त कार्रवाई नहीं कर पाई है।