विश्व जनसंख्या दिवस पर आजमाएं फैमिली प्लानिंग के घरेलू नुस्खे

नई दिल्ली। दुनिया की आबादी हर साल लगभग 8.3 करोड़ बढ़ रही है यूनाइटेड नेशन्स द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक। आयुर्वेदिक एक्सपर्ट और प्रोक्टिशनर डॉ अबरार मुल्तानी का कहना है कि ज्यादातर मामले में गर्भ निरोध के साधन न अपनाए जाने के कारण अनचाहे गर्भ को जन्म देना पड़ता है जिससे पॉपुलेशन बढ़ रही है। डॉ मुल्तानी के मुताबिक कई नेचुरल और घरेलू चीजों के इस्तेमाल से भी गर्भ निरोध किया जा सकता है।

 

  • नीम का तेल शुक्राणु नाशक होता है रिलेशन के दौरान इसका प्रयोग करने से प्रेग्नेंसी की संभावना कम हो जाती है।
  • सेंधा नमक को रिलेशन के पहले तिल के तेल में भीगा ले और इसकी डली प्राइवेट पार्ट में रखने से प्रेग्नेंसी से बचाव हो सकता है।
  • रिलेशन के बाद एक चम्मच अजवायन खाने और 7 दिनों तक सूती कपड़े में लपेटकर प्राइवेट पार्ट में रखने से प्रेग्नेंसी से बचाव होता है।
  • पपीते के बीज को खाने से प्रेग्नेंसी की संभावना कम हो जाती है। प्रेग्नेंसी में खाने से गर्भपात भी हो सकता है।
  • एक कप पानी में 2 सूखी खुबानी और शहद मिलाकर रोज लेने से प्रेग्नेंसी से बचाव होता हैं।
  • शिरीष या सरस इसके बीज स्पर्म को खत्म कर देते हैं। इन्हें पीसकर प्राइवेट पार्ट में लगाने से प्रेग्नेंसी से बचाव होता है।