शराब की दुकानों के विरोध में महिलाओं का हंगामा

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश में जहाँ एक ओर महिलाऐं शराब बंद करने को लेकर आंदोलन चला रही है वही दूसरी सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिए है कि देशी, अंग्रेजी व सभी शराब के ठेके हाइवे से 500 मीटर दूरी पर कर दिए जाये परंतु शराब माफिया प्रशासन की आंख मे धूल झोंक कर तरह तरह के नुक्से निकालने का काम कर रहें है, हाइवे के किनारे और बस्ती से दूर रह कर ही उनका व्यापार और अवैध कारोबार तथा अराजक तत्वों का काम लगातार चलता रहता है। पिछले कुछ दिन पूर्व ही सुप्रीम कोर्ट ने इस पर बड़ा निर्देंश जारी करते हुए कहा कि कोई भी शराब का ठेका हाइवे के किनारे से लगभग 500 मीटर की दूरी पर ही होगा, परंतु चल रहे व्यापार को लगातार जारी रखने के लिए माफिया अपने सभी प्रयास कर रहे है।

सुप्रीम कोर्ट के हाइवे से शराब की दुकानें हटाने के फैसले पर हमीरपुर जनपद के भरूआ सुमेरपुर मे बस्ती के बीचों बीच खुल रही शराब की दुकानों का विरोध करते हुये महिलाओं ने जमकर हंगामा काटा,उन्होंने दुकानों के बोर्ड नालियों मे फेंककर नारेबाजी करते हुऐरोध प्रदर्शन किया तथा थानाध्यक्ष सुमेरपुर,जिला आबकारी अधिकारी व जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर बस्ती के अंदर खुलने वाली शराब की दुकानों पर रोक लगाने की मांग की ,

सुमेरपुर कस्बे मे पांच कि०मी के एरिया मे नवीन गल्ला मंडी से फैक्ट्री एरिया तक हाइवे मे करीब एक दर्जन शराब के ठेके संचालित थी जिन्हे कोर्ट के आदेश पर हटाया जाना था जिन्हे हटाकर शराब विक्रेताओं के बस्ती के अंदर खोलने पर डेयरी रोड पर ज्योतिराव विद्यालय के पास बस्ती मे खोले जाने के कारण जमकर प्रदर्शन कर शराब की दुकान का बोर्ड उठाकर नाले मे फेंक दिया तथा जमकर नारेबाजी की,घटना की सूचना पर पंहुची 100 डायल ने महिलाओं को शान्त करते हुये दुकान न खुलने का आश्वासन दिया है ,

इसी तरह बांकी रोड मे पानी की टंकी के पास भी शराब की दुकान खुलने की सूचना पर भी महिलाओं व पुरुषों ने विरोध करते हुये थानाध्यक्ष व जिलाधिकारी तथा आबकारी अधिकारी को ज्ञापन सौंपा,सैकडों लोगों ने बस्ती के अंदर शराब की दुकाने खुलने का विरोध  किया।

 -सन्तोष चक्रवर्ती