बदसलूकी के मामले में महिलाओं ने शहर कोतवाल का पुतला फूंका

हरदोई। जनपद में दबंगों की गुंड़ागर्दी थामने में पुलिस नाकाम साबित हो रही है लेकिन जिले की पुलिस की गुंड़ागर्दी का कुछ कहना ही क्या है? कोतवाल द्वारा महिला के साथ कथित रूप से बदसलूकी के मामले को लेकर नाराज महिलाओं ने एसपी आफिस में प्रदर्शन कर शहर कोतवाल भगवान सिंह का पुतला जलाया है। मामले में कोतवाल के विरुद्ध शिकायती पत्र देकर कार्रवाई किए जाने कीभी मांग की है। मामले की जांच एसपी ने सीओ को सौंपी दी है।

Women,case,misbehave, burned, effigy, city inspector, son, mental condition, crime, police,
Women in case of misbehave

जनपद हरदोई में एसपी कार्यालय के सामने महिलाओं की नारेबाजी से भगदड़ मच गई। नारेबाजी भी किसी आम आदमी के लिए नही बल्कि वोभी शहर कोतवाल के विरुद्ध थी। महिलाओं ने नारेबाजी करते हुए एसपी आफिस के सामने ही शहर कोतवाल भगवान सिंह का पुतला जला दिया। इससे पहले महिलाओं ने शहर कोतवाल के बनाये गए पुतले को महिलाओं ने चूड़ियां भी पहना दी। पुतला दहन कार्यक्रम भाजपा नेत्री रीता सिंह के नेतृत्व में किया गया। महिलाओं का आरोप है कि एक महिला का विवाद चल रहा था।महिला ने छेड़छाड़ के आरोप के मामले में मुकदमा चल रहा है।

 

इसी को लेकर शहर कोतवाल उसके घर पहुंचे और घर का सामान तोड़फोड़ कर चले गए उसके बाद शाम को फिर आए और महिला की फोटो खींची और फिर उसके पुत्र को पकड़ कर ले गए और वहा लड़के के साथ मारापीटा करनी शुरू कर दी। जबकी महीला ने कोतवाल को यह भी बताया कि मेरा पुत्र की मानसिक हालत ठीक नही है। महिलाओं का आरोप है जब पीड़िता द्वारा कोतवाल को बताया गया कि पुत्र मानसिक विकलांग है और उसका इलाज नूरमंजिल से चल रहा है। इस बात से नाराज कोतवाल व सिपाही ने उसको मारापीटा और घायल कर दिया। जब उसने अन्य आंगनबाड़ी कार्यकर्मीयों को बताया और पहुंची तब उसको छोड़ा गया। महिलाओं ने पुतला जलाकर शिकायत एसपी से की है। उसके बाद एसपी ने इस मामले की जांच सीओ को सौंपी गई है।