आस्था या अंधविश्वास: भूत को भगाने के लिए औरतों पर अत्याचार !

भीलवाड़ा। देश की महिलांए रियो ओलंपिक में मेडल जीतकर आ रही हैं, सारे देश में उनके नाम के चर्चे हो रहें हैं, बेटियां इंजीनियर और कलेक्टर बन रही हैं। वहीं इसी देश में एक जगह ऐसी भी है जहां अंधविश्वास के चलते महिलाओं को यातनाओं से गुजरना पड़ता है।

bHILWADA

राजस्थान के भीड़वाड़ा में अंधविश्वास का यह माहौल देखकर आपकी रूह कांप उठेगी। खबर के मुताबिक इस जिले में एक बंक्याराणी का माता का मंदिर है, इस मंदिर में 200 सीढ़ियां हैं जहां भक्तों की भीड़ के बीच में सैकड़ों महिलाओं को ऐसी मुसीबत का सामना करना पड़ता है जो देखकर आप कांप उठेंगे। दरअसल ये महिलाएं इस 200 सीढ़ियों पर पीठ के बल ही चढ़ती हैं और उतरती हैं….वो भी रेंगकर जिससे इन्हें कथित भूत से मुसीबत मिल जाती है।

घंटों इन महिलाओं को कई यातनाओं से गुजरना पड़ता है। ज्वालामाता मंदिर में महिला के मुंह में एक जूता डाला जाता है और एक सिर पर रखकर दो किलोमीटर दूर हनुमान मंदिर तक भोपा लेकर जाता है, महिला को बिना रुके चलना पड़ता है। यदि वो रुक जाए तो भोपा उसकी पिटाई करता है। इन महिलाओं को हनुमान मंदिर में बने एक कुंड में महिला को भोपा स्नान करने का आदेश देता है। इस कुंड में दिन भर में करीब 3 सौ महिलाएं स्नान करती हैं।

अगर आप इस कुंड के पानी को देख लें तो शायद इसे छूने की भी कोशिश न करें लेकिन इन महिलाओं को इसे पीना भी पड़ता है।अब सोचिए जहां एक ओर देशभर में महिला-सशक्तिकरण को लेकर कई अभियान चलाए जा रहें हैं वहीं महिलाओं की ऐसी दुर्दशा कितनी वाजिब है।