जानिए: ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराने के बाद भी क्यों आया हरमनप्रीत को गुस्सा

डर्बी। हरमनप्रीत कौर की तूफानी (नाबाद 171) शतक और गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रन से हराकर आईसीसी महिला विश्व कप के खिताबी मुकाबले में जगह बनायी। जहां मेजबान इंग्लैंड से उनका सामना होगा। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 42 ओवरों में 04 विकेट के नुकसान पर 281 रन बनाये। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 40.1 ओवरों में 245 रनों पर आल आउट हो गई। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से केवल विलानी और ब्लैकवेल ही भारतीय गेंदबाजों का सामना कर पायीं। विलानी ने 75 और ब्लैकवेल ने 90 रन बनाये। इन दोनों के अलावा केवल पेरी ने 38 रन बनाये।

Harmanpreet, angry, defeating, Australia, runs, icc, indian team
Harmanpreet angry

बता दें कि भारत की तरफ से झूलन गोस्वामी, शिखा पांडेय, दीप्ती शर्मा ने 2-2 व राजेश्वरी गायकवाड़, दीप्ती शर्मा और पूनम यादव ने 1-1 विकेट लिया। इससे पहले हरमनप्रीत कौर के नाबाद विस्फोटक शतक (171) की बदौलत टॉस जीतकर बारिश से बाधित आईसीसी महिला विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 42 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 281 रन बनाया।

वहीं बारिश कारण देर से शुरू हुए इस मैच को 42-42 ओवरों का किया गया। भारतीय टीम की शुरुआत एक बार फिर अच्छी नहीं रही। मैच के पहले ओवर में ही स्कॉट की गेंद पर स्मृति मंधाना छह गेंद पर छह रन बनाकर विलानी को कैच दे पवेलियन लौट गईं। स्मृति लगातार पांचवीं बार 15 रन से कम के स्कोर पर आउट हुई। भारत को दूसरा झटका पूनम राउत के रूप में लगा। पूनम ने 14 रन बनाकर गार्डनर की गेंद पर मूनी को कैच थमा बैठीं। 25वें ओवर की आखिरी गेंद पर कप्तान मिताली 36 रन बनाकर क्रिस्टन बीम्स की गेंद पर बोल्ड हो गईं। इसके बाद हरमनप्रीत और दीप्ती शर्मा ने पारी को संभाला।
इन दोनों के बीच 137 रनों की साझेदारी हुई। विलानी ने दीप्ती को 238 को स्कोर पर बोल्ड कर यह साझेदारी तोड़ी। दीप्ती ने 25 रन बनाये। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से स्कॉट, गार्डनर, विलानी, और क्रिस्टन बीम्स ने एक-एक विकेट लिया।

मैच के दौरान एक समय वह आया जब उन्होंने पहले तो कप्तान मिताली राज के साथ शानदार साझेदारी कर टीम को आगे बढ़ाया, इसके बाद दीप्ति शर्मा उनके साथ आ गईं। जब वह 98 के स्कोर पर थीं तो वह 2 रनों के लिए दौड़ीं। लेकिन दीप्ति 2 रन लेने में झिझक रही थीं, लेकिन हरमन के दबाव में उन्हें दौड़ना पड़ा, जिसके बाद हरमनप्रीत कौर दीप्ति पर काफी नाराज हो गई थीं, हालांकि इसके बाद दोनों के बीच अच्छी बातचीत हो गई।