चाचा को संगठन के काम में पूरा सहयोग दूंगा : अखिलेश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को प्रदर्शन कर रहे अपने समर्थकों को नसीहत देते हुए कहा कि वे किसी तरह का विरोध प्रदर्शन न करें। उनके सामने विधानसभा चुनाव जैसी बड़ी चुनौती है, इसीलिए उनको जनता के बीच जाना चाहिए। अखिलेश ने यह भी कहा कि चाचा (शिवपाल यादव) को उनका पूरा सहयोग मिलेगा। लखनऊ के कालिदास मार्ग स्थित बंगला नंबर 5, यानी मुख्यमंत्री आवास में पत्रकार वार्ता के दौरान अखिलेश ने कहा, ष्चाचा प्रदेश अध्यक्ष बने हैं, उन्हें बधाई देने गया था। उनको नई जिम्मेदारी मिली है, मेरा पूरा सहयोग उनको मिलेगा।

will-help-uncle-shivapal-and-his-group-says-akhilesh-in-up

अखिलेश ने कार्यकर्ताओं से अनुरोध करते हुए कहा कि किसी तरह का कोई विरोध नहीं होना चाहिए और न ही विरोध के तौर पर कोई बैनर, पोस्टर और होर्डिग दिखाई देनी चाहिए। सभी को बूथ पर जाकर काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने चार साल में जनता के लिए बहुत काम किए हैं। विरोधी भी इस बात से खुश हैं कि समाजवादियों के बीच झगड़ा चल रहा है। वे पहले से प्रचार में आगे हैं, इसीलिए कार्यकर्ताओं को लोगों के बीच जाकर सरकार की उपलब्धियां बतानी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि समाजवादियों की ताकत ही उनका संगठन है। नौजवानों के सामने बड़ी चुनौती आने वाली है। उनको एक बार फिर सरकार बनाने के लिए अग्निपरीक्षा से होकर गुजरना है। उन्होंने हालांकि दावा किया कि अगली सरकार भी सपा की बनेगी। अखिलेश ने कहा, ष्जब पहले कुछ नहीं किया था, तब जनता ने भारी बहुमत से जिताया था। अब तो हमारे पास बहुत सारी उपलब्धियां हैं। उनको लेकर जनता के बीच जाएंगे और बताएंगे कि सपा ने चुनावी वादे पूरे कर दिए हैं और अब नए इरादे हैं।अखिलेश ने कहा कि चुनाव के दौरान हमने जो वादे नहीं किए थे, वे भी पूरे करके दिखा दिए। मेट्रो चलाने का वादा नहीं किया था। समाजवादी पेंशन का वादा नहीं किया था, लेकिन यह सब करके दिखा दिया।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह खुद भूल गए हैं कि वह पार्टी के यूथ संगठनों के राष्ट्रीय प्रभारी भी हैं।केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए अखिलेश ने कहा, ष्ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को मुआवजा देने के लिए केंद्र सरकार से मदद की उम्मीद थी, लेकिन नहीं मिली। अपने महत्वपूर्ण परियोजनाओं की रफ्तार धीमी कर हमने किसानों को मुआवजा दिया।ष्अखिलेश ने इस दौरान एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि 4 अक्टूबर को वह कानपुर में मेट्रो का शिलान्यास करेंगे।