एलएलबी प्रथम व द्वतीय वर्ष के छात्र क्यों नहीं लड़ सकते चुनाव?

उदयपुर। देश के सबसे बड़े सूबे राजस्थान में भी अन्य सूबों के साथ-साथ उदयपुर में भी अब छात्रों की मांग को लेकर आंदोलनकारी छात्र नेताओं की चेतावनी मिलने लगी है। उदयपुर के मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय में छात्र नेताओं ने शुक्रवार को कुलपति प्रो जे.पी शर्मा का घेराव किया। छात्र नेताओं की मांग है कि चुनाव कमेटी द्वारा एलएलबी के प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों पर चुनाव लड़ने से रोके जाने की सिफारिश की गई है, उसे खारिज किया जाए।

Why, LLB students,first,second, year, can not, fight, elections?, demand, politicians,
fight elections

दरअसल, कमेटी की ओर से की गई सिफारिश के बाद ऐसी बात सामने आई थी कि सरकार बहुत जल्द इस बात की घोषणा कर सकती है कि एलएलबी के प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्र चुनाव नहीं लड़ सकते। छात्र नेताओं ने कुलपति के घेराव के दौरान अपना पक्ष रखा, वहीं दूसरी ओर प्रशासनिक भवन के बाहर अलग-अलग छात्र नेताओं के समर्थकों ने कुलपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और छात्र नेताओं ने प्रो. जे.पी शर्मा के सामने कमेटी की सिफारिशों में फेरबदल करने की मांग उठाई है।

 

छात्र नेताओं ने कहा कि एलएलबी में प्रवेश लेने वाला छात्र ग्रेजुएट होता है ऐसे में उसे चुनाव नहीं लड़ने देना असंवैधानिक है। ग्रेजुएशन में तृतीय वर्ष में कोई भी छात्र चुनाव लड़ सकता है और एलएलबी के प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को चुनाव लड़ने पर रोक लगाना गलत है। छात्र नेताओं ने चेतावनी दी है कि कमेटी की सिफारिशों में फेरबदल नहीं होता है तो छात्र एकता परिषद की ओर से जल्द ही उग्र आंदोलन किया जाएगा जिसमें सभी छात्र संगठन शामिल होगें।