वेस्टइंडीज की धीमी पिचों पर धैर्य रखना होगा: रहाणे

एंटिगा। भारतीय टेस्ट टीम के उप-कप्तान अंजिक्य रहाणे का मानना है कि वेस्टइंडीज की धीमी पिचों पर भारतीय बल्लेबाजों को धैर्य रखना होगा और बड़ा स्कोर करने की जिम्मेदारी लेनी होगी। भारतीय टीम इस समय वेस्टइंडीज के दौरे पर है जहां उसे चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला खेलनी है। श्रृंखला का पहला मैच गुरुवार से शुरू होगा।

rahane

रहाणे ने सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “मेरा मानना है कि बल्लेबाजी में हम अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। हमने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई श्रृंखला से काफी कुछ सीखा है। अब इस श्रृंखला पर ध्यान देने की जरूरत है। बल्लेबाजी के लिए धैर्य रखना होगा।”

टीम के उप-कप्तान ने कहा, “एक बार जब आप विकेट पर जम जाएं तो यह जरूरी है कि हर एक सत्र में अच्छा खेलें क्योंकि हमें हमारे गेंदबाजों को समय देने की जरूरत है।”

रहाणे ने कहा, “एक बल्लेबाजी इकाई के नाते हमें जिम्मेदारी लेनी पड़ेगी और मेरा मानना है कि एक-दो बल्लेबाजों को बड़ा स्कोर करना होगा।” अध्यक्ष एकादश के खिलाफ खेले गए दोनों मैच ड्रॉ रहे थे। इन दोनों मैचों में भारत को अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी को परखने का मौका मिला था। रहाणे ने कहा, “हमने बल्लेबाजी के सभी पहलुओं पर विचार कर लिया है। धीमी विकेट पर किस तरह से बल्लेबाजी करनी है इस पर भी हमने चर्चा की है। इन पिचों पर धैर्य रखना जरूरी होगा। इन पिचों पर रन बनाना आसान नहीं होगा।”

28 वर्षीय रहाणे ने कहा कि इन धीमी पिचों पर 150 गेंदों में शतक की जगह 250 गेंदों में शतक लगाने की उम्मीद की जानी चाहिए। उन्होंने कहा, “अगर आप 150 गेंदों में सौ रन बनाते हैं तो यहां आपको 250 गेंदों में सौ रन बनाने पड़ेंगे। इसलिए एक बल्लेबाज के तौर पर यहां आपको 200 से ज्यादा गेंदें खेलनी होंगी।”

मध्यक्रम के इस बल्लेबाज ने कहा, “मेरा मानना है कि हमें यहां सपाट पिच मिलेंगी, लेकिन हमें 21 जुलाई का इंतजार करना होगा। सेंट किट्स में काफी धीमी पिच थी, भारतीय पिचों से मिलती जुलती।” उन्होंने कहा, “इसलिए अभ्यास मैच हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण थे और इस पहले टेस्ट मैच से हमें आगे की राह मिलेगी।”

मुंबई के इस बल्लेबाज ने टीम के गेंदबाजी आक्रमण की भी तारीफ की और कहा कि गेंदबाजों ने दोनों अभ्यास मैचों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

रहाणे ने कहा, “दो अभ्यास मैचों में सभी खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया, खासकर गेंदबाजों ने क्योंकि विकेट काफी धीमा था। गेंदबाजों के लिए यह चुनौती था, लेकिन मेरा मानना है कि उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की।”

रहाणे ने कहा, “स्पिनरों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया। अमित मिश्रा ने पहले मैच में और रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा ने दूसरे मैच में अच्छी साझेदारी की।”

रहाणे ने कहा, “गेंदबाजों को अपनी लाइन लेंग्थ में निरंतरता रखने की जरूरत है, साथ ही उन्हें धैर्य रखना पड़ेगा। इन धीमी पिचों पर उन्हें साझेदारी कर गेंदबाजी करनी होगी।”

(आईएएनएस)