मौसम की मार से भारी जनधन की हानि

Landslideदेहरादून। राज्य में मौसम के कहर ने बडे़ स्तर पर छति पहुंचाई है। राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग ने बताया कि आज यहां राज्य में हुई अतिवृष्टि से विभिन्न स्थानों पर क्षति की सूचना प्राप्त हुई है जिनमें जनपद टिहरी की घनसाली एवं उत्तरकाशी की चिन्यालीसौड़ तहसील में अत्यधिक वर्षा से त्वरित बाढ़ व मलवा आने की घटनायें हुई हैं।

विभाग ने बताया कि तहसील घनसाली में घनसाली बाजार, चमियाला बाजार, सीताकोट, गिरगांव, कोठियाड़ा, सिलयारा, अरधांगी एवं कोट में वर्तमान तक लगभग 100 परिवारों के प्रभावित होने के साथ ही 110 मकानों, 34 पशुओं तथा 01 व्यक्ति के बहने की सूचना है। ग्राम सीता कोट में 4 बैल व 5 भवनों की क्षति, ग्राम-कोटियाड़ा में 100 भवनों की क्षति व 30 पशुओं की क्षति, ग्राम-गिरगांव में 01 भवन, ग्राम-सिल्यारा में 3 भवनों की क्षति एवं ग्राम श्रीकोट में 01 भवन की क्षति की सूचना है। जिले से प्राप्त सूचना के अनुसार ग्राम-सरूणा, तहसील-घनसाली से एक व्यक्ति विपुल पुत्र सूरत राम के बहने की सूचना भी प्राप्त हुयी है। जबकि चमियाला-घनसाली मोटर मार्ग कई स्थानों पर टूट जाने के कारण अवरूद्ध है। लोक निर्माण विभाग द्वारा 05 जे.सी.बी. मशीनों की सहायता से अवरूद्ध मार्ग को खोले जाने की कार्यवाही गतिमान है। यह मार्ग भी जल्द ही यातायात के लिए सुचारू कर दिया जाएगा। सैन्दुल-पटल ग्रामीण मोटर मार्ग अवरूद्ध होने की सूचना है। उपरोक्त सभी प्रभावित ग्रामों में जल एवं विद्युत आपूर्ति बाधित है। इसे सुचारू करने के लिए कार्यवाही की जा रही है।

प्रभावित परिवारों के 300 व्यक्तियों को अस्थायी रूप से बीज गोदाम, 250 व्यक्तियों को वैलेश्वर सामुदायिक भवन एवं 150 व्यक्तियों को स्थानीय आश्रम में ठहराया गया है। प्रभावित परिवारों के भोजन-पानी आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। विभाग ने बताया कि खोज एवं बचाव कार्य राजस्व विभाग, एस.डी.आर.एफ. एवं स्थानीय पुलिस द्वारा सम्पादित किया जा रहा है।

जनपद उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ एवं डुण्डा तहसील के अन्तर्गत 03 व्यक्तियों के लापता होने की व 01 व्यक्ति की मृत्यु की सूचना है। तहसील डुण्डा के अन्तर्गत कु0 सुनैना (16) पुत्री श्री सरद सिंह नेगी के मृत्यु की सूचना है। धरासू बैण्ड के समीप अतिवृष्टि की सूचना पर एस.डी.आर.एफ. को खोज एवं बचाव के लिए भेजा गया है। जानकारी मिली है कि सभी लापता व्यक्ति जंगलों में पशु चराने के लिए गये थे। जनपद हरिद्वार में आये आंधी-तूफान में पेड़ के गिरने से 01 व्यक्ति के मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है।

राज्य के अन्य जनपदों से भी मार्गो तथा विद्युत आपूर्ति बाधित होने की सूचना प्राप्त हुई है। बाधित मार्गो में से अधिकतर मार्गो को सीमा सड़क संगठन, लोक निर्माण विभाग, वन विभाग, पुलिस तथा एस.डी.आर.एफ. के द्वारा यातायात के लिए खोल दिया गया है। साथ ही प्रभावित क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति सुचारू किये जाने की कार्यवाही गतिमान है।

विभाग की माने तो समस्त चारधाम यात्रा मार्ग यातायात के लिए खुले हुये हैं एवं चारधाम चात्रा सुचारू रूप से चल रही है। देहरादून में भी कई स्थानों पर पेड गिरने, विद्युत आपूर्ति के साथ ही यातायात के अवरूद्ध होने की सूचना मिली है। वन विभाग पुलिस तथा एस.डी.आर.एफ. की टीमों द्वारा व्यवस्था को सुचारू किया जा रहा है। विभाग ने बताया कि सभी जिलाधिकारियों को पूर्ण सतर्कता बरतने एवं आपदा सेवाओं को चैकस रखे जाने के लिए पहले ही निर्देशित किया जा चुका है।

मौसम विभाग ने प्रदेश में अगले 2-3 दिनों में सामान्य या सामान्य से कम वर्षा की संभावना बताई है किन्तु अगले 48 घंटों में कुछ स्थानों पर भारी वर्षा की भी चेतावनी दी है। इसे देखते हुए सरकार ने राज्य में सभी नागरिकों से सतर्क रहने का अनुरोध किया है। विशेष रूप से ऐसी बस्तियां या आवास जो नदियों या गदेरों के निकट हैं या जिन बसावटों के निकट भूस्खलन की संभावना है वहां पर नागरिकों से विशेष सतर्कता रखने का अनुरोध किया गया है । इसके साथ ही ऐसे स्थानों पर निवास करने वाले सभी नागरिकों से अनुरोध किया गया है कि भारी वर्षा की दशा में वे सुरक्षित स्थानों पर रहें तथा अपने आस-पास की स्थितियों पर नजर बनायें रखें।