सदियों से नहीं हुआ गांव का विकास, वोट का किया बहिष्कार

मऊ। लोकतंत्र के पर्व में जहाँ प्रदेश भर में लोग चुनाव को लेकर उत्साहित नजर आ रहे है। वहीं मऊ जिले का एक गांव ऐसा भी है जहाँ के लोगों ने जनप्रतिनिधियों के उदासीनन रवैये के चलते चुनाव बहिष्कार का मन बना लिया है। गांव वालों की माने तो उनके गांव का वर्षों से कोई विकास नहीं हुआ है। इस गांव में न तो सड़क है न ही स्कूल और न ही बुनियादी सुविधाएं। यहाँ नेता सिर्फ चुनाव के समय वोट मांगने आते है और कोरे वादे कर चले जाते है और फिर चुनाव में ही दर्शन देते है ऐसे में यहाँ मूलभुत सुविधाओं का टोटा है।

यहाँ की जनता परेशान है अब इस गांव के लोग तभी वोट देंगे जब उन्हें मुलभुत सुविधाएं मिलेंगी। वहीं ग्रामीणों ने जन प्रतिनिधियों सहित जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया। आप खुद देख सकते है कि जिले में एक ऐसा गावं है जहा सड़क, स्कूल, स्वास्थ्य केंद्र नही है और इस बार यहाँ के ग्रामीण ने वोट का बहिष्कार करने का मन बना है।

मामला मऊ जिले के सदर विधान सभा के निषाद नगर गांव का है जहाँ पर विकास किस चिड़िया का नाम है लोगों को आज तक पता नहीं चल पाया है। लोगों की माने तो प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक सभी विकास के बड़े बड़े दावे कर रहे है लेकिन इस गांव में विकास का कोई अता पता नहीं है। ग्रामीणों की माने तो उन्हे सिर्फ वोट के लोए इस्तेमाल किया जाता है जबकि गांव में मुलभुत सुविधायें सड़क, पानी ,स्कूल और स्वास्थ्य केंद्र का आभाव है।ऐसे में इस बार के चुनाव में गांव वालों ने नेताओं को सबक सिखाने के लिए चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है।

 -रविंद्र सैनी