‘बेन्गाजी के पीड़ितों के बारे में बयानबाजी बंद करें ट्रंप’

वाशिंगटन। अमेरिकी राजदूत जे. क्रिस्टोफर स्टीवेंस की मां ने न्यूयार्क टाइम्स को एक पत्र लिखकर राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप से अपने बेटे की मौत के बारे में बयान देना बंद करने को कहा है। स्टीवेंस की वर्ष 2012 में बेन्गाजी में हुए हमले में मौत हो गई थी। स्टीवेंस की मां मेरी कॉमांडे का लिखा पत्र शनिवार को प्रकाशित हुआ है। इसमें उन्होंने लिखा है, “मैं यह निश्चित रूप से जानती हूं कि क्रिस कभी नहीं चाहता कि उसके नाम या याद का इन संदर्भो में इस्तेमाल किया जाए।”

donald-trump

पत्र में उन्होंने कहा है, “मैं उम्मीद करती हूं कि चुनाव प्रचार अभियान में इस अवसरवादी एवं स्वार्थी इस्तेमाल पर तत्काल प्रभाव से और स्थायी रूप से रोक लगेगी।” सीएनएन की खबर के अनुसार, पिछले हफ्ते क्लीवलैंड में हुए रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन में भाषणों के दौरान बेन्गाजी हमले का बार-बार उल्लेख किया गया। वक्ताओं ने इसका जिक्र इस संदर्भ में किया कि डेमोक्रेटिक पार्टी की संभावित उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन राष्ट्रपति पद के लिए अनुपयुक्त हैं। लीबिया के शहर बेन्गाजी में अमेरिकी दूतावास पर जब हमला हुआ था, उस समय हिलेरी क्लिंटन अमेरिकी विदेश मंत्री थीं।

रिपब्लिकन पार्टी के कुछ नेता बेन्गाजी में सुरक्षा नाकामी के लिए हिलेरी और ओबामा को जिम्मेदार ठहराते हैं। वे स्टीवेंस और तीन अन्य अमेरिकी नागरिकों की मौत के लिए इन्हीं दोनों को जिम्मेदार ठहराते हैं। सीएनएन ने रिपोर्ट में कहा है कि बेन्गाजी हमले में मारे गए सियान स्मिथ की मां पैट स्मिथ ने रिपब्लिकन सम्मेलन में अपने सूचना प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ बेटे की मौत के लिए हिलेरी क्लिंटन को जिम्मेदार ठहराया।

(आईएएनएस)