पीडब्ल्यूडी का जेई 50 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों हुआ गिरफ्तार

उत्तरकाशी। राज्य सरकार द्वारा भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने का दावा कर रही हो लेकिन प्रशासन ये दावे जमीनी स्तर पर फेल होते नजर आ रहे हैं। विजिलेंस की टीम ने लोक निर्माण विभाग(पीडब्ल्यूडी) के संविदा पर तैनात अवर अभियंता को एक ठेकेदार से 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। इस कार्रवाई को अंजाम देने के लिए एसपी विजिलेंस सदानंद दांते खुद पुरोला में टीम के साथ पहुंचे थे। कार्रवाई के विरोध में विजिलेंस की टीम को कुछ स्थानीय ठेकेदारों के विरोध का सामना भी करना पड़ा।

मिल रही जानकारी के मुताबिक उत्तरकाशी के लोक निर्माण विभाग पुरोला डिविजन के तहत मोरी-नैटवाड रोड पर मया गाड के पास नाली निर्माण, स्कबर, दीवार निर्माण व पेंटिंग कार्य के लिए छह करोड़ स्वीकृत हुए थे। इस कार्य को एक स्थानीय ठेकेदार जनक सिंह को दिया गया था। ठेकेदार ने नाली, स्कबर आदि के काम कराए। आरोप है कि उस क्षेत्र के अवर अभियंता त्रेपन सिंह रावत ने कार्यों की जांच के बाद बिल पास नहीं किए। बिल पास करने के लिए जेई ठेकेदार से 50 हजार की रिश्वत मांग रहा था।

इसकी शिकायत जनक सिंह ने विजिलेंस को दी। इस पर विजिलेंस की टीम एसपी सदानंद दांते के नेतृत्व में पुरोला पहुंची। लोनिवि पुरोला में विजिलेंस की टीम ने जेई त्रेपन सिंह रावत को उस समय रंगे हाथ पकड़ा जब वह ठेकेदार से 50 हजार रुपये की रिश्वत ले रहा था।

इस बीच जब विजिलेंस की ओर से की गई कार्रवाई का पता स्थानीय कुछ ठेकेदारों को लगा तो वे जेई के समर्थन में आ गए। पुरोला मुख्य बाजार में ठेकेदारों ने एसपी विजिलेंस की गाड़ी रोकी और एसपी का घेराव किया।