प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना को क्रियान्वयन करने वाला उत्तराखण्ड देश का पहला राज्य बना

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से देश के युवाओं को सामर्थ्यशाली बनाने के लिए प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का शुभारम्भ किया है। इस योजना के तहत देश का पहला प्रशिक्षण केन्द्र राज्य के देहरादून जनपद में 60 युवाओं के प्रशिक्षण से आरम्भ किया जा चुका है। यह केन्द्र स्किल प्रोटेक्नोलाजीस के स्टार कम्प्यूटर अकादमी केन्द्र में सचांलित किया जा रहा है, जिसमें युवाओं को फील्ड टेकनीशियन कम्प्यूटर एण्ड पेरिफेरल के क्षेत्र में प्रशिक्षित किया जा रहा है।

प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉ पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का राज्य के युवाओं हेतु कौशल विकास पर विशेष बल है। राज्य सरकार एवं मिशन के प्रयासों से यह गौरव राज्य को प्राप्त हुआ है। देश का पहला प्रशिक्षण बैच प्रारम्भ करने में कुछ तकनीकी कठिनाइयाँ आ रही थी, जिन्हें एम.एस.डी.ई. एवं एन.एस.डी.सी. के साथ समन्वय कर दूर किया कर दिया गया है। भविष्य में इस योजना के अन्तर्गत और भी प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित कर युवाओं को रोजगार परक प्रशिक्षण प्रदान किये जाने हेतु मिशन प्रतिबद्व है।

इस योजना के अन्तर्गत वर्ष 2020 तक 40000 युवाओं को निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान कर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जाने का लक्ष्य है। उन्होने बताया कि राज्य सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना से पूर्व उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन के माध्यम से 12000 से अधिक युवाओं को 32 विभिन्न सेक्टरों में निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जा चुका है, एवं इन युवाओं को रोजगार/स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गये। उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन द्वारा कुशल उत्तराखण्ड एप्प विकसित किया गया है। इस एप्प के माध्यम से लोग अपनी आवश्यकतानुसार अपने क्षेत्र में उपलब्ध कुशल युवा (प्लम्बर, इलैक्ट्रीशियन आदि) से सम्पर्क कर कार्य करा सकते हैं।

आपको बता दें कि उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को जून 2017 में पेरिस में आयोजित विश्व की द्वितीय ग्लोबल स्किलमीट में इनोवेशन इन यू.के. आई0टी0 इन स्कील डेवलपमेंट का अवार्ड भी मिला। इसके अतिरिक्त गत दो वर्षो में टी0वी0 100 द्वारा भी उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन को उनके उल्लेखनीय कार्यो हेतु कौशल विकास के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ संस्थान का अवार्ड भी दिया है।