बुखार में ऐसे करें ठंडे पानी की पट्टी का इस्तेमाल

नई दिल्ली। जब भी बुखार होता है तो उसका घरेलू उपाय सर पर ठंडे पानी की पट्टी रख कर ही किया जाता है। बुखार से निजात पाने का यह एक सबसे अच्छा घरेलू उपचार है। अगर आपको याद हो तो बचपन में बुखाह होने पर मां या घर का कोई भी सदस्य सिर पर ठंडे पानी में भिगोई पट्टी रखा करते थे।

लेकिन क्या आपको पता है कि सिर पर ठंडी पट्टी क्यों रखी जाती है और यह किस तरह काम करती है? या इस का किस तरह से इस्तेमाल किया जाना चाहिए की इससे आपको जल्द से जल्द आराम मिले अगर नहीं तो आपको बताते है इसे इस्तेमाल करने का सही तरीका-

पट्टियों का बुखार में काम-

जब भी आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य को 101 डिग्री फैरनहाइट से ज्याद बुखार आता है तो शरीर ज्यादा गर्म हो जाता है साथ ही उस वक्त बहुत घबराहट या बेचैनी होने लगती है। ऐसे में कई बार डॉक्टर की दवाई भी जल्दी असर नहीं करती तो इन पट्टियों का ही सहारा बचता है। इन पट्टियों के लिए सूती या किसी सॉफ्ट कपड़े का इस्तेमाल करने चाहिए। इस पट्टी को ठंडे पानी में भिगो कर माथे पर रखने से शरीर का तापमान नॉर्मल होने लगता है। बच्चों व बुजुर्गों में ज्यादा बुखार के कारण बुखार के सिर में चढ़ जाने का खतरा रहता है इसलिए इन पट्टियों का उपयोग इन लोगों के लिए जरुर करना चाहिए।

बर्फ के पानी का ना करें इस्तेमाल-

जब भी बुखार 101डिग्री फैरनहाइट रहे तो उस समय आपको बर्फ के पानी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। अगर आपको ऐसा लगता है की पानी की पट्टियों को केवल माथे पर रखने से ही आपका बुखार ठीक हो जाएगा तो ऐसा नहीं है। अआप इस पट्टि को शरीर के अन्य हिस्सो जैसे सिर, माथे, हथेली के साथ-साथ पुरे शरीर पर स्पंज कर सकते है। लेकिन आपको तब भी ज्यादा आराम महसूस ना हो तो आप नहा लें इससे आप फ्रैश और बेहतर महसूस करेंगे साथ ही आपका टेम्परेचर भी नॉर्मल हो जाएगा।

सिर्फ ऐसी स्थिति में ही करे बर्फ के पानी का प्रयोग-

बर्फ के पानी का इस्तेमाल तभी करना चाहिए जब आपका बुखार 104 से 105 डिग्री फैरेनहाइट हो। तब आप इसको सामान्य करने के लिए बर्फ के पानी में भीगी हुई पट्टियों का प्रयोग कर सकते है। खैर यह तो हुआ घरेलु उपाय लेकिन अगर आपको ज्यादा समस्या हो तो आप डॉक्टर से संपर्क करें।