दो व्यापारियों का हत्यारोपी मुंशाद मैनपुरी जेल से फरार

कैराना। कैराना पलायन मामले में दो व्यापारियों की हत्या का आरोपी मुंशाद मैनपुरी जेल से फरार हो चुका है। मुंशाद कुख्यात मुकीम काला के गैंग का सक्रिय शूटर है और कैराना हत्याकांड समेत कई हत्याओं के मामलों में आरोपी है। मुंशाद की फरारी से कैराना समेत आसपास के इलाकों में खौफ है। आशंका जताई जा रही है कि मुंशाद इलाके में फिर से सनसनीखेज वारदातें कर सकता है। कैराना में दो लोहा व्यापारियों की हत्याओं के बाद से लोगो का पलायन शुरू हो गया था। मुंशाद के फरार होने के बाद से ही कैराना के व्यापारियों के मन में दहशत व्याप्त है। पुलिस ने फिलहाल गाँव में चौकसी शुरू करा दी है।

आपको बता दें की मामला जनपद शामली का है जहाँ पर कैराना के लोग एक बार फिर खौफ के साए में आ गया है जिसका कारण है मुंशाद, जो की मैनपुरी की जेल से फरार हो गया है। मुंशाद कुख्यात अपराधी मुकीम काला गैंग का सदस्य भी है और काला गैंग का शार्प शूटर भी है। मुंशाद अभी हाल ही में मैनपुरी की जेल से फरार हुआ है। मुंशाद कि फरारी की खबर सुनते ही पूरे जनपद सहित कैराना के लोग खौफ के साए में आ गए है। मुंशाद के फरार होने की खबर सुनने के बाद से ही शामली पुलिस की भी नींद उडी हुई है।

मुंशाद कांधला थाना क्षेत्र के गाँव खन्द्रावली का रहने वाला है और मुकीम काला का भरोसेमंद साथी रहा है। 23 अगस्त 2013 में दो सगे लोहा व्यापारी भाइयो शिवकुमार और राजेंद्र की हत्या मुंशाद ने की थी। जिसके बाद व्यापारियों ने एक हफ्ते तक कैराना के बाज़ार को बंद रखा था। उस दौरान एक महीने में 7 हत्याए हुई।  2014 में शामली में शराब कंपनी के ऑफिस में घुसकर लूट करने और लूट का विरोध करने पर गार्ड की हत्या कर उसकी बन्दूक लूटने के मामले में भी मुंशाद और उसके साथी शामिल रहे है। इसके अलावा सहारनपुर में हुई तनिष्क ज्वैलर्स के शोरूम में दिन दहाड़े करोडो रुपयों का डाका भी मुंशाद ने मुकीम काला के साथ मिलकर डाला था। मुंशाद पर लूट, हत्या और गैंगेस्टर सहित कई संगीन धाराओं में मुकदमें दर्ज है। मुंशाद पर शामली, मुज़फ्फरनगर, सहारनपुर सहित अन्य जिलों में भी कई मुकदमें दर्ज है। यही नहीं बल्कि हरियाणा, उत्तराखंड साहित अन्य प्रदेशो में भी मुंशाद पर मुकदमें दर्ज है। कैराना में मुंशाद का आतंक यह की लोग यहाँ पर कुछ भी बताने से डरते है। उन्हें डर है अगर उन्होंने  मुंशाद के आतंक और लोगो पर हुए जुल्म के बारे में बता दिया तो कही मुंशाद का अगला निशाना वो न बन जाए। कैराना में दो सगे भाइयों की हत्या के बाद ही कैराना में पलायन की सिलिसिला शुरू हुआ तब जो की आजतक रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

वही मुंशाद के फरार होने की खबर के बाद से शामली पुलिस की भी नींद उडी हुई है और पुलिस ने शामली जनपद सहित मुंशाद के गाव और कैराना में चौकसी बाधा दी है। शामली एस पी डॉ अजय पल शर्मा का कहना है कि मुंशाद के जो आपराधिक इतिहास रहा है उसे रिव्यु किया जा रहा है उसमें जो भी उसके साथी रहे है , उसके जो भी छुपने के ठिकाने हो सकते है सभी को ट्रेस आउट किया जा रहा है और पुलिस की कई टीम उसे पकड़ने के लिए लगी हुई है और संभवतः जल्द ही उसकी गिरफ्तारी कर ली जायेगी।

 -पंकज मलिक