फिल्म रिव्यू: सलमान की ट्यूबलाइट में नहीं दिखी चमक

नई दिल्ली। सलमान की फिल्म ट्यूबलाइट कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाई है फिल्म को लेकर जिस तरह के कयास लगाए जा रहे थे उसके मुकाबले फिल्म कुछ खास नहीं चल पाई। सलमान की फिल्म ट्यूबलाइट का निर्देशन कबीर खान ने किया था। फिल्म 23 जून को रिलिज हुई है जिसका रिव्यु ज्यादा अच्छा नहीं रहा। ट्यूबलाइट की कहानी गांव में रहने वाले दो भाई की हैं। माता-पिता की मौत के बाद दोनों भाई अनाथ आश्रम में परवरिश पाने लगते हैं। लक्ष्मण में सोचने समझने की शक्ति कम होने के कारण सभी लोग उसे ट्यूबलाइट बुलाने लगते हैं।

बता दें कि फिल्‍म की कहानी 1962 के भारत चीन युद्ध के दौरान की बनाई गई है, जिसके चलते नौजवानों को सेना में भर्ती किया जा रहा है और इसी वक्‍त भरत भी सेना में भर्ती हो जाता है। ऐसे में भरत को अपने भाई लक्ष्‍मण की चिंता होती है जो उसके जाने के बाद अकेला पड़ जाएगा। लेकिन फिर भी भरत, युद्ध में जाने का फैसल करता है। भरत के जाने के बाद अब उसके भाई लक्ष्‍मण को उसके वापस आने का इंतजार है और उसे यकीन है कि वह वापस आएगा। पर क्या वह वापस आएगा? इसी यकीन और विश्वास पर ही टिकी है ‘ट्यूबलाइट’ की कहानी। इस यकीन का क्‍या अंजाम होता है, यह आपको सिनेमाघरों में जाने पर ही पता चलेगा।

वहीं ‘ट्यूबलाइट’ में मुख्य भूमिकाओं में सलमान खान नजर आ रहे हैं और उनके साथ एक बार फिर स्‍क्रीन शेयर कर रहे हैं उनके रीयल लाइफ भाई सोहेल खान। इसके अलावा फिल्‍म में यशपाल शर्मा, जिशान, ब्रजेंद्र काले, मतीन रे तंगू और चायनीज ऐक्टर झू-झू भी नजर आ रही हैं। इस फिल्‍म में दिवंगत अभिनेता ओमपुरी भी नजर आ रहे हैं, जिनका इसी साल जनवरी में देहांत हो गया था। इस फिल्‍म का निर्देशन किया है और इसकी कहानी लिखी है कबीर खान ने और फिल्‍म को संगीत दिया है प्रीतम ने. फिल्‍म में बैकग्राउंड म्युजिक जूलीयस पककैम का है।