पूरी तरह से कैशलेस होने के करीब है तिब्बत !

बीजिंग। नोटबंदी के बाद भारत में कैशलेस होने की आवाज तेज हुई है, इसी के साथ अब तिब्बत भी पूरी तरह कैशलेस होने को तैयार हूं। चीन के सरकार नियंत्रित मीडिया ने दावा किया है कि तिब्बत में कारोबार और लेन-देन कैशलेस हो गया है। वहां पर अब धन का सारा व्यवहार ऑनलाइन हो रहा है।

हिमालयी क्षेत्र के इस इलाके में लोगों के मोबाइल फोन पर 17 लाख इंटरनेट कनेक्शन हैं। शिन्हुआ न्यूज एजेंसी के अनुसार रेस्टोरेंट, खुदरा दुकानों और मूवी थियेटरों में ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा मौजूद है। यहां तक कि सड़क के किनारे तिब्बती ज्वैलरी बेचने वाले छोटे दुकानदार भी ऑनलाइन सौदे कर रहे हैं।

चीन के ई-पेमेंट प्लेटफॉर्म अलीपे के अनुसार वर्ष 2015 में तिब्बत में 83.3 प्रतिशत आर्थिक लेन-देन ऑनलाइन हुआ। तिब्बत लगातार चार साल से चीन का सबसे ज्यादा ऑनलाइन लेन-देन करने का वाला इलाका बना हुआ है। इसमें हर साल बढ़ोतरी हो रही है। तिब्बत की राजधानी ल्हासा में पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना की शाखा में कार्यरत नोरबू के अनुसार चालू वर्ष में भी बढ़ोतरी का यह सिलसिला बना हुआ है। तिब्बत के लोगों के जीवन में ऑनलाइन आर्थिक लेन-देन की आदत बढ़ती जा रही है। इसीलिए मुद्रा रहित कारोबार बढ़ता जा रहा है।