तीन लोगाें के हत्या के आरोप में आरोपियों को मौत की सजा

अम्बेडकरनगर। अवैध संबंधों के खातिर कोई बाप ,बेटा और पति इतना गिर जाय की तीनो की एक साथ हत्या कर दे । सुन कर पैर के नीचे से जमीन खिसक जाय । जी हाँ कुछ ऐसा ही हुआ था करीब तीन साल पहले । जहां अपने घर में पत्नी,मां और तीन साल के मासूम की लाशें पड़ी थी । जिसने भी सुना सभी के कदम खुद बा खुद घटना की तरफ चल पड़े , और जो मंजर लोगो ने देखा सभी की होश उड़ गए,  गम से सभी की आँखे नाम थी । पर इतने दिन बाद जब अदालत का फैसला आया तो इस कलयुगी बाप, बेटा और पति के लिए मौत की सज़ा लेकर आया तो सभी ने अदालत के फैसले की सराहना की । बात करते है उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल के अम्बेडकरनगर जिले की ।

पुलिस की जांच में शक की सूई घर के मुखिया गोपाल सैनी के इर्द गिर्द घूम रही थी , लेकिन जब  गोपाल से  पुलिस ने कडाई से पूंछ तांछ किया तो  गोपाल टूट गया और जो सच्चाई सामने आयी तो लोगों के पैरो  तले  जमीन खिसक गयी ।  गोपाल की कंचन से शादी एक प्रेम विवाह हुआ था । कुछ दिन बाद  इनको एक बेटा पैदा हुआ जिसका नाम बड़े प्रेम इन दोनों ने धैर्य रखा । कुछ दिनों बाद कंचन को ये शक होने लगा की कही गोपाल की किसी दूसरी लड़की से सम्बन्ध हो गया है । जिसको लेकर आये दिन दोनों में खट पट होने लगी । और एक दिन गोपाल ने एक योजना बनाई गर्मी के दिन में उसने अपने बेटे धैर्य के लिए बाज़ार से कोल ड्रिंक खरीद कर लाया उसमे उसने पहले से लाई सल्फास की गोलियां मिला दी । और उसने कोल ड्रिंक बड़े प्यार से अपने बेटे धैर्य . बीबी कंचन . माँ कामा देवी को पीने के लिए दिया ।और स्वयं वहां से गायब हो गया, घर में तीन शव अलग अलग जगह पर पड़े हुए थे और आरोपी बड़ी ही सफाई से निकल चूका था टिकट लेकर कानपुर और वहाँ से सूचना मिलने के बाद लौटा।

तीन साल तक चली अदालती सुनवाई के उपरान्त अपर जिला जज तृतीय ने इस जघन्य हत्या कांड के लिए रामगोपाल सैनी को मृत्यु दंड की सजा सुनायी। न्यायालय का फैसला आते ही न्यायालय कक्ष में सन्नाटा पसर गया। न्यायाधीश ने इस फैसले को सुनाने के बाद कलम को तोड़ दिया। अदालत का फैसला आने के बाद अपने नाती और बेटी को खोचुके  राम गोपाल वर्मा अदालत के   फैसले की सराहना की है तो वही लोगो ने भी अदालत के फैसले की सराहना करते हुए कहा की ये ऐतिहासिक फैसला अपराधियो के लिए एक सबक है और इस फैसले से अपराधी अपराध करने से डरेंगे ।
 –कार्तिकेय