भारतीय परिवेश में कामक्रीड़ा का बड़ा प्राचीन केन्द्र है ये शहर, देखें तस्वीरें में ये खास

नई दिल्ली। माना जाता है कि काम कला में पश्चिमी सभ्यता भारतीयों से आगे है, लेकिन ऐसा नहीं है हमारे देश में कई शताब्दियों पहले ही कामकला और काम वासना को लेकर एक बड़ा प्रयोग किया गया था। हमारे देश में स्त्री और पुरूष के मिलन और उनके बीच होने वाले शारीरिक संबंध को लेकर काम शास्त्र तक की रचना की गई।

Kamasutra,Kamkidra
learn Kamasutra and Kamkidra

इसकी शिक्षा और प्रसार के लिए बड़े कला केन्द्रों की मदद से कई प्राचीन इमारतों में इन्हीं काम कलाओं को दर्शाया गया है। क्योंकि कामक्रीड़ा में मग्न स्त्री पुरूष के उन अंतरंग पलों को जानने और समझने के लिए हमारे हमारे प्राचीन काल में बड़े विचारकों ने इन्हें विकसित किया था।

Kamasutra,Kamkidra
learn Kamasutra and Kamkidra

काम वासना के साथ भारतीय परिवेश
आज भी वे स्थान इन्ही काम कलाओं की कलाकृतियों के लिए भारत ही नहीं विश्व के आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं मध्य प्रदेश के खजुराहो की जिसे कभी खजूर के जंगलों के नाम से भी जाना जाता था। लेकिन आज वो जंगल अपने कामक्रीड़ा और कामकला के अनुपम कला कृतियों के बड़े केन्द्र बने हुए हैं।

Pages: 1 2 3 4