ब्रिटेन से यूरोप के नागरिकों को निकालने से थेरेसा का इनकार नहीं

लंदन। ब्रिटेन की गृह मंत्री थेरेसा मे ने ब्रिटेन में रह रहे यूरोपीय संघ (ईयू) के नागरिकों को देश से निकालने की संभावना से सोमवार को इनकार नहीं किया। ब्रिटेन में अब डर यह सता रहा है कि उनके अधिकारों की गारंटी देने से देश में प्रवासियों की भीड़ बढ़ जाएगी। ‘द इंडिपेंडेंट’ की खबर के अनुसार, सत्तारूढ़ कंजर्वेटिव पार्टी के नेता प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की जगह प्रधानमंत्री पद के प्रमुख दावेदार के रूप में उभरीं मे ने कहा कि हालांकि वह चाहती हैं कि ब्रिटेन में अभी रह रहे यूरोपीय संघ (ईयू) के नागरिकों को उनकी मौजूदा स्थिति की गारंटी दी जाए, लेकिन भविष्य समझौता वार्ता पर निर्भर कर सकता है।

Theresa

एक अधिकारी ने कहा, “वह कह रही थीं कि अभी यह वादा करना अक्लमंदी नहीं होगी कि ब्रिटेन में अभी रह रहे यूरोप के सभी नागरिकों को अनिश्चितकाल तक ब्रिटेन में रहने दिया जाना चाहिए। इसका कारण है कि यदि हमने ऐसा किया तो यही अधिकार यूरोपीय संघ के किसी भी नागरिक पर लागू होगा, जो यूरोपीय संघ छोड़ने से पहले ब्रिटेन आया है।”

उन्होंने कहा, “यदि हम ऐसा वादा करते हैं तो आप देखेंगे कि यूरोपीय संघ के नागरिकों का बड़ा प्रवाह आ रहा है। उनके पास वह मौका होगा तो वे सभी यहां आना चाहेंगे।”

अधिकारी ने भी यह स्पष्ट किया कि यह मुद्दा समझौता वार्ता का विचारणीय बिंदु है।

मे ने स्थानीय मीडिया से कहा, “महत्वपूर्ण यह है कि जो लोग पहले से ही यहां हैं और यहीं बस गए हैं और ब्रिटेन के उन निवासियों का जो यूरोपीय संघ के अन्य देशों में रह रहे हैं, इन सभी के मुद्दों पर एक समझौते के लिए बातचीत होगी।

मे की इस टिप्पणी पर लिबरल डेमोक्रेट नेता टिम फैरन ने मांग की है कि ब्रिटेन स्थित यूरोपीय संघ के नागरिकों को इसका पूरा भरोसा दिया जाना चाहिए कि उन लोगों को इस देश में अनिश्चितकाल तक रहने का अधिकार है।

ब्रिटेन लगभग 40 वर्षो से यूरोपीय संघ में है। 24 जून को हुए जनमत संग्रह में ब्रिटेन को इस 27 सदस्यीय क्षेत्रीय संघ से बाहर निकालने के पक्ष में वोट पड़ा।

(आईएएनएस)