चीनी महंगी होने से गायब हो जाएगी चाय की मिठास

नई दिल्ली। चीनी के रेट बढ़ने के कारण आपकी चाय की मिठास गायब हो सकती है। चीनी मिलों ने आपूर्ति रोक दी गई है। जिसके बीच स्टॉकिस्टों और थोक उपभोक्ताओं की भारी खरीदी के कारण राष्ट्रीय राजधानी, दिल्ली के थोक चीनी बाजार में कीमतों में बढ़ौतरी हुई है। चीनी की कीमतों में 50 रूपये प्रति क्विन्टल की तेजी आई है। इस बढ़ती कीमतों पर बाजार सूत्रों का कहना है कि त्योहारों के मद्देनजर शीतलपेय और आइसक्रीम निर्माता कंपनियों जैसे थोक उपभोक्ताओं की जोरदार खरीदारी के साथ-साथ चीनी मिलों की आपूर्ति रुकने से चीनी कीमतों में तेजी आई है।

sweetness, tea, decrease, price, sugar, increased
sugar

बता दें कि चीनी तैयार एम.30 और एस.30 की कीमतें 40 रुपए की तेजी के साथ सप्ताह के अंत में क्रमश: 3,630- 3,810 रुपए और 3,620-3,800 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई। चीनी मिल डिलीवरी एम.30 और एस.30 की कीमतें सप्ताह के अंत में क्रमश: 3,630-3,810 रुपए और 3,620-3,800 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई। मिलगेट खंड में चीनी शामली की कीमत 50 रुपए की तेजी के साथ 3,715 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई, जिसके बाद चीनी धामपुर की कीमत 45 रुपए की तेजी के साथ 3,720 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई। चीनी खतौली और सकोटी की कीमतें क्रमश: 3,800 रुपए और 3,710 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई, जबकि चीनी दोराला और चांदपुर की कीमतें 30 रुपए की तेजी के साथ क्रमश: 3,760 रुपए और 3,680 रुपए प्रति क्विन्टल पर बंद हुई।