सवालों के घेरे में चिट्ठी पर मुलायम के हस्ताक्षर!

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में चल रहे पारिवारिक लड़ाई के बीच दो चिट्ठियां सामने आई है, जिसने बवाल खड़ा कर दिया है। इन दो चिट्ठियों में से एक में किरणमयी नंदा को पार्टी से निष्कासित करने का आदेश था और दूसरी में राम गोपाल यादव के निष्कासन पर संसदीय बोर्ड की पुष्टि की गई थी, जिसमें खास बात यह है कि दोनों चिट्ठियों पर जो सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह के हस्ताक्षर है वो बिल्कुल अलग हैं। चिट्ठियों के सामने आते ही सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि मुलायम के हस्ताक्षर आखिर किए किसने।

ये भी पढ़ेंः

फर्जी है चिट्ठियां

चिट्ठियों का मामला मीडिया में आते ही सपा से बर्खास्त किए गए किरणमय नंदा का कहना है कि दोनों चिट्ठियां फर्जी हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कोई शख्स है जो पार्टी को तोड़ना चाहता है इसलिए ऐसे समय में कोई शख्स पार्टी को तोड़ना चाहता है। मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने यह भी कहा कि सब देख रहें है कि सपा की लड़ाई अब सड़कों पर आ गई है। लड़ाई को तूल देने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है।

आमतौर पर मुलायम चिट्ठियों पर अपना पूरा नाम ‘मुलायम सिंह यादव’ लिखते हैं। यही साइन उनका असली साइन माना जाता है। हालांकि इस मामले में सपा की ओर से कोई आधिकारिक बयान अब तक सामने नहीं आया है।