दूनवासियों की पहली पसंद कांजीरंगा साड़ियां, जम्मू-कश्मीर की शॉल भी भाई

देहरादून। 09 जनवरी, 2018। आयोजक उत्तराखण्ड हथकरघा एवं हस्तशिल्प विकास परिषद उद्योग निदेशालय, देहरादून एवं प्रायोजक विकास आयुक्त (हथकरघा) भारत सरकार द्वारा नेशनल हैण्डलूम एक्सपो को दिन-प्रतिदिन देहरादून वासियों का अच्छा रूझान देखने को मिल रहा है। यह प्रदर्शनी 13 जनवरी तक चलेगी।

dehradun
dehradun

बता दें कि नेशनल हैण्डलूम एक्सपो में चैखम्बा पवेलियन में असम की साड़ियों का स्टॉल लगा है जिसमें मानस सेवा संघ के सीखा दास ने बताया कि असम की हथकरघा बुनकरों द्वारा बनाई गयी प्रसिद्ध आसामी सिल्क साड़ी, मूंगा साड़ी व मेखला साड़ी दूनवासियों के लिए लाई गयी हैं और जो महिलाओं की पहली पसंद बनती जा रही है। उन्होंने बताया कि हमारे पास काजीरंगा साड़ियाँ, जिसमें काजीरंगा पार्क की आकृतियाँ भी दर्शायी गई हैं। देहरादून वासियों के लिए आसाम की ये प्रसिद्ध साड़ियाँ जो कि पूरी तरह से हथकरघा बुनकरों द्वारा बनाई गयी हैं। एक्सपो में सात सौ से लेकर पन्द्रह हजार तक की साड़ियाँ उपलब्ध हैं।

वहीं दूसरी ओर त्रिशूल पवेलियन में जम्मू-कश्मीर का स्टॉल लगा है जिसमें अजमत हैण्डलूम के अख्तर हुसैन ने बताया कि हम देहरादूनवासियों के लिए पश्मीना शॉल, कानी शॉल तथा कानी वर्क सूट लेकर आये हैं उन्होंने कहा कि हमें उत्तराखण्ड आकर काफी अच्छा लगता है यहां काफी अच्छी सेल हो जाती है लोग पश्मीना शॉल काफी खरीद रहे हैं हमारे पास छः सौ से लेकर पांच हजार तक के शॉल व सूट उपलब्ध हैं।