नहीं भुलाया जा सकता महामना के योगदान: मदन कौशिक

हरिद्वार। उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने सप्त ऋषि आश्रम में भारत रत्न महामना मदन मोहन मालवीय जयंती पर आयोजित कार्यक्रम व अनुष्ठान में प्रतिभाग कर मालवीय जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर कौशिक ने आश्रम प्रांगण में भोजनालय का शुभारम्भ किया और 5 लाख रूपये देने की घोषणा भी की।

Madan Kaushik
Madan Kaushik

बता दें कि महामना को स्मरण करते हुए कहा की महामना द्वारा सनातन धर्म की रक्षा के लिए किए गए योगदान को व धर्म नगरी में शिक्षा जगत में व सनातन संस्कृति के लिए किए गए कार्यों को कभी भुलाया नही जा सकता। मां गंगा के प्रति उनकी श्रद्धा भक्ति सर्वविदित है धर्म नगरी में उनके द्वारा स्थापित गंगा सभा इसका उदाहरण है। पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि पंडित मदन मोहन मालवीय ने देश की संस्कृति को बचाए रखने के लिए कई कार्य किए हैं।

साथ ही इस दौरान उन्होंने कहा कि देश की आजादी के बाद भारतीय संस्कृति को बचाए रखना सबसे बड़ी चुनौती थी, ऐसे समय में पंडित मदन मोहन मालवीय ने देश की संस्कृति को बचाए रखने के लिए कई कार्य किये। उन्होंने काशी हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की। इस दौरान उन्होंने सभी से पंडित मदन मोहन मालवीय के दिखाए गए रास्ते पर चलने का आह्वान किया। इस अवसर पर मेयर मनोज गर्ग, जूना अखाडा के मंत्री देवानंद सरस्वती, सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के कार्यवाहक अध्यक्ष आईएम गोस्वामी, उपाध्यक्ष सुधीर गुप्ता, महंत स्वरुप कोशिक, महावीर दल के अध्यक्ष देश बंधू, महामंत्री उपेन्द्र, क्षेत्रीय पार्षद अनिल मिश्र आदि ने महमना को श्रधांजलि अर्पित की।

वहीं इससे पूर्व भारत के पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपयी के जन्म दिवस पर भाजपा के मंडल अध्यक्ष अनिरुद्ध भाटी द्वारा सचिदानंद घाट पर आयोजित रुद्राभिषेक में मंत्री मदन कोशिक ने भाग लिया व गंगा जी में वाजपयी जी की दीर्घायु के लिए दुग्धाभिषेक किया। इस अवसर पर विनीत जोली, गोमती मिश्र, नीरू चतुर्वेदी, संदीप गोस्वामी, आचार्य सुशील शर्मा आदि मौजूद रहे।