भारतीय टीम के लगातार हो रहे मैच से खफा हुए कप्तान, कहा दो श्रृंखलाओं के बीच मिले ब्रेक

नई दिल्ली। भारत और श्रीलंका के बीच चल रही टेस्ट सीरीज कते मद्देनजर भारतीय टीम काफी व्यस्त हो गई है, जिसको लेकर तरह तरह के बयान सामने आ रहे हैं। खबरों की माने तो लोगों का कहना है कि क्रिकेट खेलना खेल और खिलाड़ी दोनों पर बुरा असर डालते हैं। भारत के पूर्व दिग्गज गेंदबाज कपिल देव का मानना है कि कि क्रिकटर्स को अगर लगता है कि खेल ज्यादा हो रहा है तो उन्हें आराम कर लेना चाहिए। उनका मानना है कि क्रिकेट का खेल ज्यादा पेशेवर हो गया है। वहीं कई विशेषज्ञ आईपीएल को भी जिम्मेदार मानते हैं उनका मानना है कि टी20 के आने से, खास तौर पर आईपीएल जैसी प्रतियोगिताओं के आने से खिलाड़ियों पर दबाव ज्यादा रहने लगा है, और इसका विपरीत असर परंपरागत क्रिकेट पर हो रहा है

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही भारत के कप्तान विराट कोहली ने इस पर बयान दिया था कि जब उन्हें लगेगा वे आराम मांग लेंगे, लेकिन रोटेशन जैसी व्यवस्था पर भी तो सवाल खड़े किए जा सकते हैं क्या ये ठीक होगा की हर सीरीज में टीम के एक दो खास खिलाड़ियों को ‘आराम’ दिया जाना खेल के साथ न्याय देना होगा। इन्हीं सब बातों के बीच कोहली ने स्वीकार किया कि दक्षिण अफ्रीका दौरे की तैयारी के लिये अधिक समय नहीं होने के कारण टीम प्रबंधन के पास श्रीलंका के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला के लिये उछालभरी पिचें बनाने का अनुरोध करने के सिवाय कोई चारा नहीं था।

 

कोहली ने भी कहा कि बड़ी श्रृंखला के लिये टीम को अलग तरीके से तैयारी करनी होती है लिहाजा दो श्रृंखलाओं के बीच ब्रेक होना चाहिए। इसी के मद्देनजर फैंस की अपेक्षाओं के बारे में उन्होंने कहा कि भविष्य में हमें इस पर ध्यान देना होगा क्योंकि हम विदेश दौरे पर टीम का आकलन करने लगते हैं लेकिन यह नहीं देखते कि तैयारी के लिये कितना समय हमें मिला। कोहली ने कहा कि  टेस्ट मैचों के बाद नतीजे आने पर लोग खिलाड़ियों के बारे में आकलन करने लगते हैं. ऐसा नहीं होना चाहिये, इसी के साथ ये भी देखना चाहिए कि हम जैसी तैयारी करना चाहते थे, हमें उसका मौका मिला या नहीं।