लोहे का कड़ा बना युवक की मौत का करण

फतेहपुर। इस रंग-बिरंगी दुनिया के चका चौंध के चक्कर और फैशन की दौड़ में इंसान शौक तो कर लेता हैं, मगर उसके नुकसान से वाकिफ नहीं होता। आप ने देखा होगा लोगों के हाथो में कड़े पहने हुए कुछ तो मन्नतों के चलते लोग पहनते हैं, मगर कुछ लोग शौकियन हम आप को वह तस्वीर दिखाने जा रहे हैं, जिसको देखकर आप कोई भी शौक करने के पहले एक बार जरूर सोचेंगे। ऐसा ही एक मामला फतेहपुर जिले में देखने को मिला है। जोकी अपने शौक के लिये अपने हाथो में लोहे का कडा पहने हुए था। कोल्हू में पीराई करते समय उसका कडा कोल्हू में फस गया देखते ही देखते पूरा हाथ उसका कोल्हू में चला गया और उसकी जान की चली गयी।

Bangle, reason,death,young man, kanpur refer, doctors,
Bangle reason death

उत्तर प्रदेश में फतेहपुर जिले के थाना ललौली क्षेत्र के महाराजपुर गांव निवासी जय सिंह जिसका आटा चक्की का व्यवसाय हैं। परिवार की जीविका चलाने के लिये उसने तेल पीराई का कोल्हू भी लगा रखा था। आज सुबह वह कोल्हू में पिराई कर रहा था और उसने अपने हाथ में एक लोहे का कड़ा पहन रखा था। जय सिंह को यह नहीं मालूम था की जिस हाथ में वह शोकियां कड़ा पहने हुए हैं, आज वही कड़ा उसी हाथ को उसके जिस्म से हमेशाह हमेशाह के लिए जुदा कर देगा आखिर कार वही हुआ।जिसका उसने कभी सोचा भी नही था। कडा कोल्हू में फस गया और धीरे-धीरे पूरा हाथ कोल्हू में समा गया चीख पुकार सुन परिजन जब तक आते तब तक तो जय सिंह का हाथ जड़ से कट चुका था और खून के फुहार चलने लगी थी। हालत नाजुक देख परिजनों ने 108 एम्बुलेंस का सहारा लेकर जिला अस्पताल उपचार के लिए लाये जहा बिगड़ती हालत देख डाक्टरों ने जय सिंह को कानपुर के लिए रेफर कर दिया। वहीं जब परिजनों से बात की गयी तो लाल सिंह ने बताया की जय सिंह कोल्हू में काम कर रहा था और उसने हाथ में कडा पहना हुआ था। अचानक कड़ा कोल्हू में फस गया जिसके कारण उसका हाथ कोल्हू में जाकर कट गया। इस बारे में जिला अस्पताल के डाक्टर रवि आनन्द मरीज के हाथ कटने और हालत नाजुक देख कानपुर रेफर करने की बात करने लगे। वही परिजनों ने जय सिंह की जान की सलामती के लिए इधर-उधर दौड़ते नजर आये और बाद में जय सिंह को कानपुर इलाज के लिए ले गए।