भारत पर आतंकियों की नजर!

चंड़ीगढ। पंजाब में युवा नशे की लत का शिकार हो रहे है। पंजाब के तमाम सीमावर्ती इलाकों में आसानी से ड्रग उलब्ध होना युवाओं के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक है। युवाओं को ड्रग्स के चुंगल से निकालने के लिए प्रशासन द्वारा लगातार सकारात्मक कदम उठाए जा रहे हैं। बुधवार को पंजाब के सीमावर्ती इलाके में पुलिस द्वारा चैकिंग अभियान चलाकर ड्रग बरामद की है।

सूत्रों के हवाले से मिल रही खबरों के मुताबिक पुलिस को भारतीय खुफिया एजेंसियों ने सूचना दी थी कि सीमावर्ती इलाकों में आतंकी ड्रग तस्करों की मदद से किसी बड़े हमले को अंजाम देने वाले हैं। एजेंसियों का कहना है कि पाकिस्तान से जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तोयबा लगातार स्थानीय नेटवर्क की मदद से बड़े हमले करने की साजिश रच रहा है। साथ ही ड्रग को लगातार सप्लाई कर रहे हैं।

पूरा इलाका असुरक्षित

सूत्रों का यह भी कहना है कि सुरक्षा एजेंसियों ने इस बात को स्वीकार किया है कि पंजाब के तमाम सीमावर्ती इलाकों में ड्रग तस्कर लगातार अपने पैर पसारने में लगे हुए हैं। स्थानीय गिरोह के ड्रग तस्करों के साथ साठ-गांठ के कारण पुलिस किसी को भी गिरफ्तार करने में नाकामयाब रही है। लगातार पैर पसार रहे गिरोह के कारण यह इलाका पूरी तरह से असुरक्षित बना हुआ है।

सिंडिकेट खत्म करना चुनौती

जानकारों का कहना है कि स्थानीय नार्को सिंडिकेट को खत्म करना बड़ी चुनौती है। अवैध ड्रग तस्करों की भूमिका की पड़ताल अभी भी एन.आई.ए. कर रही है। पुलिस का कहना है कि ड्रग तस्करों के साथ मिलकर आतंकी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में हैं।