रिपोर्ट का दावा एयर इंडिया को खरीद सकता हैं टाटा ग्रुप

नई दिल्ली। जल्द ही एयर इंडिया को खरीद सकता है टाटा ग्रुप। सिंगापुर एयरलाइंस के साथ पार्टनरशिप में देश की सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को खरीदने की संभावना तलाश रहा हैं। सूत्रों की मानें तो रिपोर्ट में कहा गया है कि अर टाटा इस दिशा में आगे बढ़ता है और डील हो जाती है तो यह एयर इंडिया के लिए घर वापसी जेसी बात होगी क्योंकि यह कंपनी साल 1953 में राष्ट्रीयकरण होने से पहले टाटा के ही अधिपत्य थी।

इसके साथ ही रिपोर्ट में कहा गया कि टाटा ग्रुप के चेयरमैन ने इस संबंधझ में सरकार के साथ अनौपचारिक बातचीत में एयर इंडिया में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी की इच्छा जताई है। सरकार एक दशक से घाटे में चल रही अपनी विमानन कंपनी को प्राइवेट हाथों में सौंपने की इच्छुक हैं। वित्त मंत्री सरकार एक दशक से घाटे में चल रही अपनी विमानन कंपनी को प्राइवेट हाथों में सौपने की इच्छुक हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में कहा था कि एविएशन मिनिस्ट्री वो सारी संभावनाएं तचलाशेगी कि एयर इंडिया का प्राइवेटाइजेशन कैसे किया जाए एयर इंडिया पर अभी 52,000 करोड़ रुपए का भारी भरकम कर्ज है।

सरकार इसके लिए 30,000 करोड़ रुपए बेलआउट पैकेज मंजूर कर चुकी है जिसमें से 24000 करोड़ की रकम की दी भी जा चुकी हैं साल 2013 में टाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा को कहा था कि जब एयर इंडिया का प्राइवेटाइजेशन होगा तो इस बार विचार करने में टाटा ग्रुप को खुशी होगी टाटा ग्रुप पहले से देश में एविएशन सेक्टर में मौजूद है ग्रुप ने मलयेशियाई कंपनी एयर एशिया के साथ मिलकर एयर एशिया इंडिया और सिंगापुर एयरलाइंस के साथ जॉइंट वेंचर में विस्तारा में निवेश किया हैं।