विदेशी मॉडल ने ‘ताज के दीदार’ की चुकाई ये कीमत

आगरा। ताज का दीदार करना उत्तर प्रदेश में आए हर पर्यटक का सपना होता है और वो उसे अपने साथ कैमरे में कैद भी करता है। लेकिन ताजनगरी में ताज का दीदीर करना दूसरे देश से आई सुंदरियों को इस कदर भारी पड़ा कि उनके दुपट्टे सुरक्षा के नाम पर ही उतरवा दिए गए। इस घटना के सामने आते ही हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता सामने आए और जमकर विरोध किया।

दरअसर 34 अलग-अलग देशों से आई मॉडल ने धूप से बचने के लिए अपने आप को दुपट्टे से कवर किया हुआ था। इन दुपट्टों का रंग भगवा था। जांच के दौरान सीआईएसएफ जवानों ने इन दुपट्टों को उतरवाकर बाहर रखवा दिया। जब उनसे इसे उतरवाने की वजह के बारे में पूछा गया तो उनका जवाब हैरान करने वाला था। उन्होंने कहा कि ताजमहल में धार्मिक निशान और पूजा सामग्री पर रोक है। इसके बाद गाइड ने सभी मॉडल को ताज में प्रतिबंधित सामग्री की जानकारी दी।

मीडिया में इस खबर के आते ही हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता आक्रोश में आ गए और इस घटना का विरोध करने लगे और पुरातत्व विभाग के कार्यालय के बाहर जमकर नारेबाजी की। विरोध करने वाले सभी भारतीय जनता युवा मोर्चा, हिंदू जागरण मंच और हिंदू संहठनों ने भगवा रंग पहना हुआ था। उनका कहना था कि विदेशी मेहमानों के साथ इस तरह का व्यवहार ठीक नहीं है भारत में उनका अपमान किया गया है। इसका उनपर क्या असर पड़ेगा? वहीं इस पूरे मामले पर आगरा भाजपा अध्यक्ष विजय शिवहरे ने सवाल पूछते हुए कहा क्या यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आएंगे तो उनके भी कपड़े उतरवाए जाएंगे? बरहाल, अधीक्षण पुरातत्वविद् ने इस मामले के जांच के आदेश दे दिए हैं।