स्वाइन फ्लू ने दी समय से पहले दस्तक, छह की मौत

देहरादून। राजधानी देहरादून में स्वाइन फ्लू का कहर बढ़ता ही जा रहा है। स्वाइन फ्लू से दो और मरीजों की मौत हो गई है। इसके बाद अब मरने वालों की संख्या छह पहुंच गई है। लगातार विकराल होते स्वाइन फ्लू से स्वास्थ्य महकमा भी सकते में है।

swine flu, died, six, doctor, health, knocks, danger,
Swine flu

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. तारा चंद पंत के अनुसार ऋषिकेश निवासी 82 वर्षीय बुजुर्ग महिला को कुछ दिन पहले हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट में भर्ती कराया गया था। सोमवार को आई जांच रिपोर्ट में उन्हें स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई। देर रात महिला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसी तरह यमुना कॉलोनी में रहने वाले 84 वर्षीय बुजुर्ग को बीते 10 जुलाई को श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी मौत हो गई थी। उन्होंने बताया कि इस साल स्वाइन फ्लू से अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 19 मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है।

स्वाइन फ्लू ने राज्य में इस बार समय से पहले दस्तक दी है। अमूमन स्वाइन फ्लू के मामले अगस्त से फरवरी के बीच सामने आते हैं लेकिन इस साल मार्च से जुलाई के बीच भी स्वाइन फ्लू का प्रकोप जारी है। इसी माह स्वाइन फ्लू से चार मौत हो चुकी हैं। जबकि माना जाता है कि स्वाइन फ्लू का वायरस कम तापमान में अधिक सक्रिय होता है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस वक्त मौसम में नमी काफी है। जो वायरस के फैलने में सहायक बन रही है।

स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए टेमी लू दवा का इस्तेमाल किया जाता है। विभाग का दावा है कि अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में दवा पहुंचा दी गई हैं। श्री महंत इंदिरेश और कैलाश अस्पताल को भी दवा भिजवाई गई है। हालांकि, हिमालयन और मैक्स अस्पताल अपने स्तर पर दवा का इंतजाम कर रहे हैं। देहरादून जिले में स्वाइन फ्लू के नोडल अधिकारी डॉ. पुनीत चंद्रा ने बताया कि जिले में दवा की कोई कमी नहीं है। दून मेडिकल कॉलेज, कोरोनेशन अस्पताल व प्रेमनगर अस्पताल को दवा की आपूर्ति काफी पहले कर दी गई थी।