आवारा मवेशी खाते है सरकारी अस्पताल के दस्तावेज

हरदोई। जिला में आवारा मवेशी खाते है सरकारी अस्पताल के दस्तावेज ये हाल है विभाग का जहां पर टपकती छतों से भीगे अभिलेखों को कही भी सूखने के लिए रख कर निकल लेते है, जिम्मेदार और सवाल करने पर मामले को बेबुनियाद बता कर मीडिया पर भड़क उठते है। उच्चाधिकारी वैसे तो जिले का स्वास्थ्य महकमा अक्सर विवादों में रहता है। अब इस जिला अस्पताल एक और लापरवाही से रूबरू होंगे। दरअसल मामला अस्पताल में मौजूद सरकारी अभिलेखों के रख रखाव का है।

जब सरकारी अभिलेख ही नहीं है सुरक्षित तो मरीज़ो के लिए कितने चिंतित होंगे जिम्मेदार होंगे। जहाँ एक विभाग के बाहर कइयों सरकारी अभिलेखों को सूखने के लिए रखा गया है। मगर तभी अस्पताल परिसर में भ्रमण कर रहे दो आवारा मवेशी इस विभाग के बाहर से गुजरते है और उनकी नज़र इन अभिलेखों पर पड़ती है। फिर क्या मौके का फायदा उठाकर ये गाये बड़े चाव से इन अभिलेखों का सेवन कर अपना पेट भर अस्पताल में आगे की सैर पर निकल लेते है। विभाग के कर्मचारी विभाग में अनजान बने बैठे रहते हैं। वही जब मीडिया कर्मियों ने इस सम्बन्ध में सीएमओ रामवीर से बात करनी चाही तो इस मामले को बेकार बताते हुए भड़क उठे।

जिस विभाग अभिलेखों को जानवरो ने अपना खाना बनाया जब उस विभाग के कर्मचारी से वार्ता की गयी तो उसने बताया की विभाग की छत से पानी टपकता रहता है। जिससे ये अभिलेख भीग गए और इसी वजह से उनको सूखाने के लिए रखा गया था। मगर यहाँ बात आती है सुरक्षा व्यवस्था की तो उस पर चुप्पी साध कर बैठ गया कर्मचारी और इस बारे में कुछ भी बोलने से डरता नज़र आया। बहस और भड़काउ व्यवहार के बाद मीडिया से रूबरू हुए अधिकारी ने मामले को अपने संज्ञान में न होना बता कर अपना पल्ला झाड़ लिया।