कश्मीर के आतंकवाद को बयां करती लघु फिल्म ‘वापसी’ की चंडीगढ़ में स्पेशल स्क्रीनिंग

चंडीगढ़। एक कश्मीरी आतंकवादी के देश की विचारधारा से जुड़ने की कहानी प्रदर्शित करती लघु फिल्म ‘वापसी’ की बीते रविवार को यहां सेक्टर-27 में स्पेशल स्क्रीनिंग हुई। बॉबी बाजवा द्वारा निर्देशित इस लघु फिल्म में कश्मीर घाटी के उस परिवार की उतार चढ़ाव की उस व्यथा को दर्शाया गया है जिसमें घर का मुखिया परिवारजनों की बिना परवाह किये हुए जिहादी बन कर आतंकवादी गुटों से जा मिला और देश में तबाही का मंजर पेश करता रहा। हालांकि यह एक सुखांत फिल्म है क्योकिं अंत में सुबह का भूला शाम को घर लौटा आता है।

film wapsi
film wapsi

बता दें कि पहले भी ऐसी कई सामाजिक लघु फिल्मों का निर्देशन कर चुके बॉबी बाजवा के अनुसार कश्मीर घाटी में ऐसे कई असंख्य परिवार हैं जिसके नौजवान घर और देशप्रेम को छोड़ कर आतंकी विचारधारा से जुड़कर देश का विनाश कर रहे हैं। बॉबी ने गत दिनों कश्मीरी फुटबालर का उत्तम उदाहरण देते हुए कहा कि ऐसे कई पथभ्रष्ट कश्मीरी युवा हैं जो कि इस फिल्म की तरह ‘वतन वापसी’ को आतुर हैं।

वहीं तीस मिनट की यह फिल्म उस परिवार के इर्द गिर्द घूमती है जिसमें आशावादी पत्नी अपने पति के लौटने की उम्मीद को अंत तक जिंदा रखती है। फिल्म अमरनाथ यात्रियों पर हुए दर्दनाक हमले से शुरू होती है परन्तु फिल्म का अंत एक साकारत्मक संदेश से समाप्त होता है। फिल्म में स्थानीय थियेटर कलाकारों के साथ मुम्बई की सोफिया को लिया गया है। फिल्म का निर्माण मैक्लोड इंटरटेनमेंट सैबी और रोनी के साथ-साथ वरिन्द्र जैन और सतपाल जैन ने किया है। बोबी अब अगली सामाजिक फिल्म ‘लव जिहाद’ के मुद्दे पर बनायेंगें।