राम मंदिर को लेकर बोले मुलायम, सिर्फ उत्तर भारतीयों के लिए पूजनीय हैं भगवान राम

लखनऊ। एक तरफ देश में राम मंदिर के निर्माण को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है,वहीं दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह ने भगवान राम पर बयान देकर राजनीतिक को गरमा दिया है। आपको बता दें कि बीजेपी को ठेंगा दिखाने के लिए अयोध्या में भगवान राम की मुर्ति की तर्ज पर सपा सैफई में भगवान श्रीकृष्ण की मुर्ति लगवा रही हैं। वहीं मुलायम सिंह ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि भगवान राम की पूजा तो सिर्फ उत्तर भारत में होती है,जबकि भगवान श्रीकृष्ण उत्तर भारत के साथ दक्षिण भारत में भी पूजे जाते हैं। गाजियाबाद में युवक-युवती परिचय सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि पधारे मुलायम ने कहा कि भारत में भले ही भगवान राम के बहुत अनुयायी हैं, लेकिन भगवान  श्रीकृष्ण के अनुयायी भी कम नहीं हैं।

उन्होंने भगवान राम और श्रीकृष्ण को लेकर जो बयान दिया उसके बाद प्रदेश की सियासत तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी के अयोध्या में श्रीराम की मूर्ति लगवाने के मुकाबले में अखिलेश यादव इटावा के सैफई में भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति लगवा रहे हैं।  सम्मेलन में मुलायम सिंह यादव ने कहा कि देश और समाज में सभी वर्ग का सम्मान होना चाहिए। यहां तो परिचय सम्मेलन हो रहा है, वो तो ठीक है लेकिन यादव के साथ ही अन्य को भी सम्मान मिले तो अच्छा है। महिला व बच्चों को भी सम्मान मिले। कार्यक्रम में विधान परिषद सदस्य आशु मलिक भी मौजूद थे।

वहीं समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है, जिसमें 1990 में कार सेवकों पर गोली चलाने को लेकर यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की गई है। राणा संग्राम सिंह ने अपनी याचिका में कहा है कि 6 फरवरी 2014 को मैनपुरी जिले में आयोजित जनसभा में मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि उनके आदेश पर 1990 में पुलिस ने अयोध्या में कार सेवकों पर गोली चलाई थी। राणा संग्राम सिंह के वकील ने बताया कि यादव के इस बयान के खिलाफ संग्राम सिंह ने लखनऊ पुलिस से मामला दर्ज करने की गुहार लगाई थी, लेकिन पुलिस ने इनकार कर दिया।