आजाद था आजाद हूं और आजाद ही रहूंगा, जाने चंद्र शेखर के जीवन की कही अनकही बातें

नई दिल्ली। चंद्र शेखर आजाद देश के एक ऐसे सैनिक हैं। जो हकीकत में आजाद थे आजाद हैं और आजाद रहेंगे। ये बात सिर्फ चंद्र शेखर आजाद ने कही नहीं बल्कि उसको साबित भी किया। चंद्र शेखर आजाद ने भारत को आजाद कराने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। आजाद का जन्म 23 जुलाई सन 1906 को हुआ था। उनका गांव आदिवासी ग्राम भाबरा था। काकोरी ट्रेन डकैती और साण्डर्स की हत्या में सम्मिलित निर्भीक महान देशभक्त और क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद का नाम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में अहम स्थान रखता है। उनकी शहादत को आज भी पूरे सम्मान के साथ याद किया जाता है। चंद्र शेखर के पिता पंडित सीताराम तिवारी उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले के बदर गांव के रहने वाले थे। लेकिन अकाल पड़ने के बाद उनके पिता भाबरा में जा बसे आजाद का जीवन आदिवासी क्षेत्र भाबरा में ही बीता। आजाद ने वहां भील सखाओं के साथ धनुष-बाण चलाना सीखा।

Chandra Shekhar Azad, india, soldiers, Mahatma Gandhi
Chandra Shekhar Azad Jayanti

बता दें कि आज़ाद बचपन में महात्मा गांधी से प्रभावित थे। आजाद मां से इजाजत लेकर संस्कृत पढ़ने की आज्ञा लेकर घर से निकले। उस वक्त गांधी जी के 1921 के असहयोग आंदोलन का आरम्भिक दौर चल रहा था। उस वक्त आजाद सिर्फ 14 साल के थे। आदाज ने गांधी जी के उस आंदोलन में भाग लिया। जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें मजिस्ट्रेट के समक्ष उपस्थित किया गया। वहां जब चंद्रशेखर से उनका नाम पूछा गया तो उन्होंने अपना नाम आज़ाद, पिता का नाम स्वतंत्रता और घर ‘जेलखाना’ बताया। उन्हें अल्पायु के कारण कारागार का दंड न देकर 15 कोड़ों की सजा हुई। हर कोड़े की मार पर, ‘वन्दे मातरम्‌’ और ‘महात्मा गाँधी की जय’ का उच्च उद्घोष करने वाले बालक चन्द्रशेखर सीताराम तिवारी को इस घटना के बाद सार्वजनिक रूप से चंद्रशेखर ‘आज़ाद’ कहा जाने लगा।

आजादी में आजाद की भूमिका

वहीं 1922 में गांधी जी द्वारा असहयोग आंदोलन को स्थगित कर दिया गया। इससे चंद्रशेखर आजाद बहुत आहत हुए। उन्होंने देश को आजाद कराने की ठान ली। एक युवा क्रांतिकारी ने उन्हें हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन क्रांतिकारी दल के संस्थापक राम प्रसाद बिस्मिल से परिचित करवाया। आजाद बिस्मिल से बहुत प्रभावित हुए। चंद्रशेखर आजाद के समर्पण और निष्ठा की पहचान करने के बाद बिस्मिल ने चंद्रशेखर आजाद को अपनी संस्था का सक्रिय सदस्य बना लिया। चंद्रशेखर आजाद अपने साथियों के साथ संस्था के लिए धन इक्कठा करते थे। ज्यादातर धन अंग्रेजी सरकार से लूट कर इक्कठा किया जाता था।

सुभाष चंद्र बोस से मुलाकात

1925 में हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन की स्थापना की गई थी। 1925 में काकोरी कांड के फलस्वरूप अशफाक उल्ला खां, रामप्रसाद ‘बिस्मिल’ सहित कई अन्य मुख्य क्रांतिकारियों को मृत्यु-दण्ड दिया गया था। इसके बाद चंद्रशेखर ने इस संस्था का पुनर्गठन किया। भगवतीचरण वोहरा के संपर्क में आने के बाद चंद्रशेखर आज़ाद भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु के भी पास आ गए। भगत सिंह के साथ मिलकर चंद्रशेखर आजाद ने अंग्रेजी हुकूमत को भयभीत करने और भारत से खदेड़ने का हर संभव कोशिश की।

झांसी में क्रांतिकारी गतिविधियां

चंद्रशेखर आजाद ने एक निर्धारित समय के लिए झांसी को अपना गढ़ बना लिया। झांसी से पंद्रह किलोमीटर दूर ओरछा के जंगलों में वह अपने साथियों के साथ निशानेबाजी किया करते थे। अचूक निशानेबाज होने के कारण चंद्रशेखर आजाद दूसरे क्रांतिकारियों को प्रशिक्षण देने के साथ-साथ पंडित हरिशंकर ब्रह्मचारी के छ्द्म नाम से बच्चों के अध्यापन का काम भी करते थे। वह धिमारपुर गांव में अपने इसी छद्म नाम से स्थानीय लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हो गए थे और उनको बहुत पसंद करने लगे थे। झांसी में रहते हुए चंद्रशेखर आजाद ने गाड़ी चलानी भी सीख ली थी।

चंद्रशेखर आज़ाद की शहादत

फरवरी 1931 में जब चंद्रशेखर आज़ाद गणेश शंकर विद्यार्थी से मिलने सीतापुर जेल गए तो विद्यार्थी ने उन्हें इलाहाबाद जाकर जवाहर लाल नेहरू से मिलने को कहा। चंद्रशेखर आजाद जब नेहरू से मिलने आनंद भवन गए तो उन्होंने चंद्रशेखर की बात सुनने से भी इनकार कर दिया। गुस्से में वहाँ से निकलकर चंद्रशेखर आजाद अपने साथी सुखदेव राज के साथ एल्फ्रेड पार्क चले गए। वे सुखदेव के साथ आगामी योजनाओं के विषय पर विचार-विमर्श कर ही रहे थे कि पुलिस ने उन्हें घेर लिया। आज़ाद ने अपनी जेब से पिस्तौल निकालकर गोलियां दागनी शुरू कर दी। आज़ाद ने सुखदेव को तो भगा दिया पर स्वयं अंग्रेजों का अकेले ही सामना करते रहे। दोनों ओर से गोलीबारी हुई लेकिन जब चंद्रशेखर के पास मात्र एक ही गोली शेष रह गई तो उन्हें पुलिस का सामना करना मुश्किल लगा। चंद्रशेखर आज़ाद ने यह प्रण लिया हुआ था कि वह कभी भी जीवित पुलिस के हाथ नहीं आएंगे। इसी प्रण को निभाते हुए एल्फ्रेड पार्क में 27 फरवरी 1931 को उन्होंने वह बची हुई गोली स्वयं पर दाग के आत्म बलिदान कर लिया।

पुलिस के अंदर चंद्रशेखर आजाद का भय इतना था कि किसी को भी उनके मृत शरीर के के पास जाने तक की हिम्मत नहीं थी। उनके मृत शरीर पर गोलियाँ चलाकर पूरी तरह आश्वस्त होने के बाद ही चंद्रशेखर की मृत्यु की पुष्टि की गई। बाद में स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद जिस पार्क में उनका निधन हुआ था उसका नाम परिवर्तित कर चंद्रशेखर आजाद पार्क और मध्य प्रदेश के जिस गांव में वह रहे थे उसका धिमारपुरा नाम बदलकर आजादपुरा रखा गया।