आडवाणी की सुरक्षा में चूक, समय पर नहीं पहुंचे पुलिस अधिकारी

सिरोही। आबूरोड की मानपुर हवाई पट्टी पर पूर्व उप प्रधानमंत्री की सुरक्षा में रविवार को बड़ी चूक दिखी। हवाई पट्टी पर उनके विमान के उतरने के करीब 20 मिनट तक एनएसजी कमांडो नहीं पहुंच सके। जिससे उन्हें 20 मिनट तक मानपुर हवाई पट्टी में बनाए गए पांडाल में एनएसजी का इंतजार करना पड़ा।

आबूरोड में ब्रह्मकुमारी संस्थान का 80वां स्थापना दिवस रविवार को शुरू हुआ। इसके मौके पर पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी भी पहुंचे। यहां अन्य कई लोग भी चार्टर्ड प्लेन से पहंचुने वाले थे। ऐसे में प्रशासन भी गफलत में था कि किसका विमान पहले आएगा और कौन सा बाद में। इन सभी लोगों में सिर्फ पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी के लिए एनएसजी कमांडो आबूरोड तो आ चुके थी लेकिन समन्वय के अभाव में यह लोग हवाई पट्टी पर नहीं पहुंच सके।

ऐसे में एक विमान हवाई पट्टी पर उतरा और उसमें से जब लालकृष्ण आडवाणी बाहर निकले तो प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए। प्रोटकाल के अनुसार उनकी सुरक्षा में एनएसजी को आना था। ऐसे में स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने सुरक्षा घेरे में उन्हें हवाई पट्टी से वहां बने पांडाल में पहुंचाया। एनएसजी के आने पर आडवाणी कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। हालांकि हवाई पट्टी इंचार्ज और आबुरोड़ पुलिस के सर्किल अधिकारी अरविंद चारण ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है।

बताया जा रहा है कि पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी के विमान को ईंधन भरने के लिए लिए जोधपुर जाना था। इसकी सूचना एनएसजी को दी गई थी। इस लिहाज से आडवाणी के विमान को उनके अनुसार निर्धारित समय से करीब 20-25 मिनट देरी से पहुंचना था। ऐसे में एनएसजी हवाई पट्टी से करीब 04 किलोमीटर दूर कार्यक्रम स्थल पर थी। जैसे ही आडवाणी के हवाई पट्टी पर पहुंचने की जानकारी मिली, एनएसजी और पूर्व उप प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगा कारगेट हवाई पट्टी पर पहुंचा।