स्कूल संचालक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

दिल्ली। दिल्ली में कर्ज में डूबे स्कूल संचालक ने स्कूल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। आत्महत्या से पहले स्कूल संचालक ने कर्ज का जिक्र करते हुए एक सुसाइड नोट लिखा। जिसमें उन्होंने अपने परिवार के अलावा अपने जान पहचान और रिश्तेदारों को वहॉट्सएप पर मैसेज किया है। इधर घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए नजदीकी अस्पताल के शवगृह में सुरक्षित रखवा दिया है।पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, मृतक की पहचान विकास (34) के रूप में हुई है।

वही बुधवार को कानूनी कार्रवाई पूरी कर शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया जाएगा। पुलिस मृतक के पास से मिले सुसाइड नोट की जांच कर रही है। पुलिस के अनुसार, विकास परिवार के साथ हर्ष विहार इलाके में रहता था। जहां उसकी पत्नी विनिता दो बेटे एक बेटी व मां कुंतेश के अलावा परिवार के अन्य सदस्य है। विकास का हर्ष विहार इलाके में ही प्ले स्कूल है।
इसके साथ उसका फाइनैंस का भी काम है।

जानकारी के मुताबिक सोमवार सुबह परिवार को जैसे ही वहॉट्सएप पर मैसेज से सूचना मिली की विकास ने सुसाइड की है तो आनन फानन में परिजन स्कूल पहुंचे और जाकर देखा कि विकास स्कूल के कमरे में रस्सी के सहारे लटका हुआ है। परिजनों ने तुरंत उसे नीचे उतार कर अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं सुसाइड नोट में विकास ने अपने ताऊ के लड़के पवन कुमार पर आरोप लगाया है कि पवन कुमार को उसने करीब पांच लाख रुपए तीन-चार बार में ब्याज पर लेकर दिए अब वह व्यक्ति मुझसे वापस रुपये मांगते है। पवन कुमार बार-बार वायदा करके मुकर जाता है। जिसके चलते उसे बेज्जती का सामना करना पड़ता था। वही मृतक ने उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है और अपनी पत्नी से निवेदन किया है कि वह घर छोड़कर ना जाये बच्चों को लेकर मेरे बाप के पास रहे
तथा उनके उपर जो भी कर्ज है उसे उनके परिवार से ना मांगा जाए। वहीं घटना के बारे में पूछे जाने पर उत्तर-पूर्वी जिले के डीसीपी अजीत कुमार सिंगला ने बताया कि सुसाइड नोट की जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट और सुसाइड नोट की जांच के बाद जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।