सऊदी के शाह सलमान ने भतीजे की जगह गद्दी पर बेटे को बैठाया

नई दिल्ली। सऊदी अरब के सुल्तान सलमान के एक फैसले ने सबको चौका दिया है। दरअसल सलमान ने भतीजे मुहम्मद बिन नायेफ को हटाकर अपने बेटे मुहम्मद बिन सलमान को उत्तराधिकारी घोषित कर दिया है। पिता के बाद अब प्रिंस सलमान ही सऊदी अरब की सत्ता संभालने वाले हैं। प्रिंस सलमान को सुल्तान बनाने की योजना बहुत पहले से बनाई जा रही थी। इसलिए क्राउन प्रिंस रहे नायेफ से धीरे-धीरे सारी शक्तियां छीनी जा रही थी। सऊदी प्रेस एजेंसी का कहना है कि एक शाही फरमान मे प्रिंस सलमान पहले से ही सऊदी के उप प्रधानमंत्री के रूप में चुने जा चुके हैं। इसके साथ ही वो सऊदी अरब के रक्षा मंत्री भी हैं।

बता दें कि जब से सलमान ने गद्दी संभाली थी उसके बात से ही ये कयास लगाए जा रहे थे कि सलमान नायेफ को हटाकर बेटे को वारिस घोषित करने वाले हैं। सलमान ने 2015 में नायेफ को क्राउन प्रिंस बनाया था। वहीं सलमान भतीजे का साथ छोड़कर काफी टाइम से बेटे को प्रिंस बनाने के लिए मजबूत बनने की कोशिश कर रहे थे।

नायेफ की पश्चिम देशों में हो रही तारीफ

सऊदी अरब की प्रेस एजेंसी का कहना है कि किंग सलमान द्वारा अपने 31 साल के बेटे सलमान को किंग चुने जाने की खबर सब जगह फैल गई है। वहीं नायेफ को उनके पद से हटाए जाने की खबर भी हर तरफ फैल गई है। नायेफ ने अल-कायदा से निपटने के लिए जो भी कोशिश की है उसको लेकर पश्चिम देशों ने उनकी काफी सरहाना की। बता दें कि जब से किंग सलमान गद्दी पर बैठे, तभी से उनके बेटे मुहम्मद बिन सलमान का सरकारी फैसलों में उनका काफी हस्तक्षेप बढ़ गया था। फिर चाहे वह बजट हो, या फिर विदेशी सौदों को रोकना और सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कांट-छांट, प्रिंस का असर हर जगह देखा जा रहा है।

वहीं सऊदी के युवा वर्ग में सलमान को काफी पसंद किया जा रहा है। लोगों को लगता है, कि युवा सुल्तान उनकी और देश की समस्याओं को बेहतर तरीके से सुलझा सकेंगे और उनके लिए सही फैसले लेंगे। वहीं दूसरी ओर सलमान को नापसंद करने वाले लोगों की भी कोई कमी नहीं है। लोगों को लगता है कि सलमान ताकत के भूखे हैं और इतने सारे बदलाव कर सऊदी को अस्थिरता के जोखिम की ओर ले जा रहे हैं। इसलिए कुछ लोग उनको नापसंद कर रहे हैं।