शशिकला को सजाः विरोधी बता रहे हैं न्यायसंगत

नई दिल्ली। भारत के अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने उच्चतम न्यायालय द्वारा अन्नाद्रमुक महासचिव वीके शशिकला के विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति मामले में कठोर फैसला दिये जाने की प्रशंसा की है।रोहतगी ने बुधवार को कहा कि इस फैसले से स्पष्ट हो गया है कि शीर्ष स्तर पर भ्रष्टाचार से भी उच्चतम न्यायालय सख्ती से निपटेगा। उन्होंने कहा कि इस अग्रणी फैसले ने दिखा दिया है कि भ्रष्टाचार शीर्ष स्तर पर भी होता है तब अदालत ताकत के साथ कार्यवाही करती है।

उन्होंने कहा कि विधानसभा में बहुमत का वास्तविक परीक्षण केवल सदन में ही होना चाहिए। उन्होंने राज्यपाल की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने उच्चतम न्यायालय के फैसले का इंतजार कर सही काम किया है। अब उनके ऊपर ही है कि वह ​तमिलनाडु में नई सरकार का गठन कराएं। वे चाहें तो दोनों विरोधी गुटों के प्रमुखों से अगले कुछ दिनों में विधानसभा में अपना बहुमत सिद्ध करने को कहें या फिर अपने विवेक से किसी एक दल को मुख्यमंत्री चुनने का अवसर दें जिसके पक्ष में बहुमत हो।रोहतगी ने तमिलनाडु में अगले दो दिन में स्थिति सामान्य होने की उम्मीद जाहिर की है।

पलानीस्वामी ने सजा को बताया था प्रदेश के लिए न्यायः सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आय से अधिक संपत्ति मामले में मंगलवार को एआईएडीएमके की महासचिव वी.के.शशिकला तथा उनके तीन रिश्तेदारों को दोषी ठहराए जाने के बाद कार्यकारी मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम के नेतृत्व वाले पार्टी के दूसरे गुट में हर्ष का माहौल है। एआईएडीएमके के पूर्व सांसद पलानीस्वामी ने कहा था कि न्याय हो चुका है हम प्रसन्न हैं। पलानीस्वामी ने कहा कि शशिकला का समर्थन करने वाले विधायक अब अपनी वफादारी पन्नीरसेल्वम के प्रति दर्शाएंगे। उन्होंने कहा, अगर उनकी योजना किसी और को प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में पेश करने की है, तो उनकी यह सफल नहीं होगी।