संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती के विरोध का दायरा बढ़ा

मुंबई। संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती के रिलीज होने का वक्त जैसे जैसे करीब आता जा रहा है, वैसे वैसे इस फिल्म को लेकर विरोधी सुरों का दायरा भी बढ़ता जा रहा है। अब तक राजस्थानी राजपूतों का संगठन कार्णिक सेना की इसकी रिलीज का विरोध करती आ रही थी। कल इंदौर से खबर आई कि वहां के एक राजपूती संगठन ने पीवीआर सिनेमाघर को पत्र भेजकर इस फिल्म को न रिलीज करने की चेतावनी दी थी। अब खबरें मिल रही हैं कि कई और जगहों पर इस फिल्म के रिलीज का विरोध शुरु हो गया है।

padmavati
padmavati

बता दें कि गुजरात, महाराष्ट्र, बिहार और झारखड के अलग अलग क्षेत्रों से इस फिल्म के विरोध की खबरें मिल रही हैं। गुजरात के कई सिनेमाघरों से इस फिल्म के पोस्टरों को जबरन हटाया गया, तो महाराष्ट्र के कोल्हापुर के एक संगठन ने इसके विरोध में मोर्चा निकाला। बिहार के मुजफ्फरनगर में पद्मावती के विरोध को लेकर सड़क पर मोर्चा निकला, तो झारखंड के जमशेदपुर के एक स्थानीय संगठन ने इस फिल्म पर बैन लगाने की मांग की है। केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने कुछ ही दिनों पहले भरोसा दिया था कि पद्मावती के रिलीज में कहीं कोई बाधा नहीं आने दी जाएगी और इसे रिलीज करने वाले सिनेमाघरों को पूरी तरह से सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।