पद्मावती विवाद पर संसद में सुनवाई, भंसाली और प्रसून जोशी होंगे पेश

नई दिल्ली। फिल्म ‘पद्मावती’ पर गुरुवार को संसद की इंफार्मेशन और टेक्नालॉजी कमेटी के सामने सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी और फिल्म पद्मावती के निर्देशक संजय लीला भंसाली फिल्म को लेकर हो रहे विवाद पर अपना अपना पक्ष रखेंगे। इस कमेटी में बॉलीवुड कलाकार राजब्बर और परेश रावल भी होंगे।

padmavati
padmavati

बता दें कि फिल्म पद्मावती का राजस्थान की करणी सेना से लेकर राजनीतिक पार्टियां तक इसका विरोध कर रही हैं। करणी सेना का कहना है कि फिल्म मॆं अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के बाच ड्रीम सिक्वेंस दर्शाए गए हैं जो कि राजपूतों समुदाय के मान-सम्मान के खिलाफ है। करणी सेना ने रानी पद्मावती पर फिल्माया गया गाना घूमर पर विरोध जताया है| उनका कहना है कि राजपूत घराने की महिलाएं पुरुषों के सामने इस तरह नाच गाना नहीं किया करती थी।

वहीं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगाया कि पद्मावती जैसी फिल्में एक अंतर्राष्ट्रीय साजिश के तहत बनाई जा रही हैं जिसके लिए दुबई में बैठे लोग धन मुहैया करा रहे हैं। डॉ. स्वामी ने सरकार से मांग की कि इस संबंध में जांच करना चाहिए तथा प्रवर्तन निदेशालय को संजय लीला भंसाली से पूछताछ करनी चाहिए।

साथ ही स्वामी के अनुसार, दुबई में बैठे लोग भारत के मुस्लिम शासकों को हिरो के रूप में पेश करना चाहते हैं। जो हिन्दू महिलाओं के साथ रिश्ता बनाने के इच्छुक थे। पद्मावती फिल्म में रानी पद्मावती के व्यक्तित्व को हल्के रूप में प्रदर्शित किया गया है। स्वामी ने पूरे मामले को राजनीतिक रंग देते हुए कहा कि मनमोहन सरकार के दौरान इस तरह की फिल्म बनाने की बाढ़-सी आ गई।