ओवरटाइम करने से गई थी महिला रिपोर्ट की जान, 4 साल बाद हुआ खुलासा

टोक्यो। एक महिला रिपोर्टर की ओवरटाइम काम करने से मौत हो गई। मामला जापान का है जहां एक महिला की मौत का खुलासा चार साल बाद हुआ है। दरअसल 31 साल की मिवा सादो नेशनल ब्रॉडकास्टर में राजनीति कवर करती थीं। साल 2013 में उनकी मौत हो गई थी। जिसका खुलासा चार साल बाद हुआ। जिससे जापान मे काम कराने वालों का एक डरावना सच सामने आया है। जापान की मीडिया रिपोर्टर का कहना है कि मिवा की मौत ओवरटाइम करने से हुई थी। उन्होंने जून में 159 घंटे और 37 मिनट ओवरटाइम किया था। वहीं इससे पहले यानी मई के महीने में भी मिवा ने 147 घंटे ओवरटाइम किया था। उनकी मौत की जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि पूरे महीने में मिवा ने केवल दो दिन की छुट्टी ली थी। इस दौरान मिवा वहां हो रहे एक स्थानीय चुनाव को कवर कर रही थीं जिसके कारण उन्हें एक्स्ट्रा काम करना पड़ रहा था।

japan
japan

बता दें कि ज्यादा काम करने की वजह से विमा का स्ट्रेट लेवल काफी बढ़ गया था। जिसकी वजह से उन्हें हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई थी। जापान में ओवरचाइम के कारण मौत होने का ये कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी इससे पहले भी एक एडवरटाइजिंग एजेंसी में काम करने वाली लड़की की ज्यादा काम करने के कारण मौत हो गई थी। लड़की ने महीने में 100 घंटे से ज्यादा काम किया था और वो इतनी डिप्रेशन में चली गई थी कि उसने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया था। इस कारण एड कंपनी के सीईओ को इस्तीफा देना पड़ा था।

वहीं जापान में हर साल ज्यादा काम करने के कारण हजारों मौतें होती हैं। इस कारण होने वाली मौतों को ‘कारोशी’ कहते हैं यानी ‘ओवरटाइम से मौत’। कारोशी का कारण हार्ट अटैक, स्ट्रेस के कारण स्ट्रोक और ज्यादा समय तक भूखे रहना हो सकता है। जिनकी वजह से वर्कर्स की मौत हो जाती है।