दरिंदों ने बनाया नाबालिग दिव्यांग को अपने हवस का शिकार

बांदा। शहर में एक बार फिर दरिंदो की हैवानियत का मामला सामने आया है। मामले के अनुसार दरिंदों ने एक दिव्यांग नाबालिग को अपने हवस का शिकार बनाया है। बताया जा रहा है कि एक नाबालिग लड़की को लेबर कॉन्ट्रैक्टर ने अपनी एक महिला साथी की मदद से बुलाया और उसे अगवाकर अपने गाँव ले गया जहाँ बंधक बनाकर अपने तीन साथियों के साथ उसके साथ गैंगरेप को अंजाम दिया और दो दिन बाद उसे बाँदा लाकर छोड़ दिया गया। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर महिला सहित चारो आरोपियों को गिरफ्तार करने की बात कही है।

मामला बाँदा नगर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम कनवारा के रघुवंशी डेरा का है जहाँ 25 जनवरी की सुबह मजदूर रामशरण निषाद की दिव्यांग नाबालिग पीड़िता को उसके ही पड़ोस में रहने वाली महिला छंगी बहला फुसला कर कृषि विश्वविद्यालय के सामने लेकर आयी और वहां पहले से मौजूद कृषि विश्वविद्यालय के लेबर कॉन्ट्रेक्टर चौधरी और उसके साथी रामधनी को सौंप दिया। पीड़िता का आरोप है कि आरोपी उसे जबरन चारपहिया वाहन में बैठा कर ले जाने लगे जिसपर विरोध करने आरोपियों ने उसे कुछ सुंघाकर बेहोश कर दिया।

पीड़िता का कहना है कि उसे एक घर में उसे बंद करके ठेकेदार चौधरी,रामधनी, जीतू और बाबूलाल ने उसके साथ दो दिन तक बारी-बारी रेप किया और दो दिन बाद रात में बाँदा लाकर छोड़ दिया। आँखों से लाचार बेसुध पीड़िता किसी तरह घर पहुंची और अपने परिजनों को घटना की जानकारी दी जिस पर आज सुबह पीड़ित परिवार ने नगर कोतवाली पहुँचकर गैंगरेप का मामला दर्ज कराया है। इस सम्बन्ध में अपर एसपी का कहना है कि इस मामले में गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गयी है।

 -मनोज कुमार