फिरौती के लिए जब दोस्त ने उतरा दोस्त को मौत के घाट

हरदोई। दोस्ती जैसे पाक रिश्ते और भरोसे के कत्ल का यह मामला हरदोई जिले के पिहानी कोतवाली से ताल्लुक रखता है। जहां के भाटन टोला मुह्हले के रहने वाले आढ़ती व्यवसायी नरेश चंद्र गुप्ता का का 22 साल का बेटा निमिष 24 नम्बबर की शाम साढ़े सात बजे घर से निकला। उसके बाद निमिष घर वापस नहीं लौट कर आया। घर के लोगों ने रात भर खोजबीन की लेकिन निमिष का कही पता नहीं चल सका। अगले दिन घर के लोगों ने पुलिस ने निमिष के लापता होने की सूचना पुलिस को दी।परिजनों ने निमिष के तीन दोस्तों राहुल उर्फ़ विक्की ,सूरज मिश्र और तुषार सक्सेना के साथ आखरी बार देखें जाने की बात बताई अब जवान बेटे के गम में डूबी माँ की आंखे अब भी दरवाजे की और लगी है इस आस में की शायद उनका लाल वापस लौट आये।

आंखो में गम के आंसू और बेटे के हत्यारो के प्रति गुस्सा लिए बैठी माँ अब उन हत्यारो को पुलिस से मांग कर रही है जिन्होंने उनके बेटे की जान ली और वो उन्हें खुद अपने हाथो से सजा देना चाहती है पुलिस को अभी पहले शव की तलाश है इसलिए निमिष के कातिलो को सबके सामने नहीं लाई है पुलिस पूरे मामले में गहराई से जांच में जुटी है और सभी आरोपी उसकी पकड़ में आ चुके है यहाँ तक की अपना जुर्म भी काबुल चुके है परिवार वाले भी मान रहे है की निमिष के दोस्तों ने ही उसका कत्ल कर दिया अब परिवार वाले किसी तरह निमिष के शव की तलाश में जुटे है। नहर का बहाव इतना तेज़ है की शव खोजना मुश्किल है और परिवार वाले शव ना मिलने तक यही आस लगाए है की शायद उनका लाल वापस आ जाए।


परिजनों के बताये दोस्तों के नाम के बाद जब पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कॉल डिटेल और सर्विलांस की मदद ली तो शक की सुई इन दोस्तों पर ही घूम गयी।जिसके बाद पुलिस ने एक एक करके जब निमिष के दोस्तों को पकड़ा तो और उनसे कड़ाई से पूछताछ की तो उन्होंने पूरे मामले का राज़ उजागर कर दिया। चुकी दोस्तों ने ही निमिष का कत्ल फिरौती के लिए किया और उसके बाद शव को बोरे में बंद करके नदी में फेंक दिया। पुलिस फिलहाल आरोपियों की निशानदेही पर शव की बरामदगी में लगी है। शव की बरामदगी के लिए पुलिस से लेकर पीएसी के गोताखोर लगाए गए है लेकिन अभी तक शव नहीं मिलने से पुलिस की परेशानी बढ़ी है। वही घटना के बाद से निमिष के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है।

कहते है दोस्ती एक सलोना और सुन्दर अहसास का वो झोका है जो संसार के हर रिश्ते से अलग होता है जिंदगी के हर मोड़ पर हर कदम पर दोस्तों का साथ मिलता है लेकिन निमिष के दोस्तों ने दोस्ती में विश्वासघात की ऐसी इबारत लिखी जिससे इस पाक रिश्ते पर भी सवाल खड़ा कर दिया।

आशीष सिंह,संवाददाता