रायबरेली और अमेठी से बदले की भावना रखते हैं मोदीः राहुल

रायबरेली। कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले रायबरेली में जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाया। मोदी पर प्रहार करते हुए राहुल ने कहा कि अमेठी और रायबरेली के लिए मोदी बदले की भावना दिल में लिए घूमते हैं। राहुल ने कहा कि मोदी तो हिन्दुस्तान के पीएम हैं ना, तो वह रायबरेली और अमेठी के लोगों को दुख क्यों पहुंचा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पीएम ने अब तक एक भी वादे पूरे नहीं किए जो उन्होंने काशी से किए थे। राहुल ने कहा कि बेटे यानी मोदी जी ने तो अपनी मां यानी वाराणसी से भी काफी वादा किया है, लेकिन जब बेटा अपनी मां को दिया वचन पूरा नहीं कर रहा है तो आपका और हमारा कैसे पूरा कर सकता है। वहीं उन्हांने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं द्वारा अक्सर उन पर तंज कसने को लेकर कहा कि वह मेरे बारे में क्या बोलते हैं, मुझे फर्क नहीं पड़ता है।

राहुल गांधी ने यहां डलमऊ में आयोजित चुनावी सभा में कहा कि मैं देख रहा हूं कि प्रदेश में इन दिनों भाजपा के नेता काफी खराब बयान दे रहे हैं। इन लोगों की जुमलेबाजी काफी तेज हो गई है। यह लोग मेरे बारे में भी काफी उल्टा सीधा बोलते रहते हैं, लेकिन इनकी बातों से मेरे ऊपर कोई फर्क नही पड़ता है।

राहुल ने प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी और अन्य भाजपा नेताओं पर दूसरे की एकाग्रता भंग करने में माहिर होने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यह लोग दूसरों को बातों में उलझाकर काम नहीं करने देते हैं, लेकिन मैं इनके जाल में फंस नहीं पा रहा हूं। मैं इनकी बातों को जरा भी गम्भीरता से नहीं लेता हूं। राहुल ने नोटबन्दी को लेकर भी प्रधानमंत्री और केन्द्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने एक बार फिर आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने विजय माल्या का कर्ज तो माफ किया, लेकिन किसानों की कर्जमाफी पर प्रधानमंत्री उनके सामने पूरी तरह खामोश रहे।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने मोदी सरकार ने 01 लाख 40 करोड़ रूपया 50 अमीर परिवारों को दिया है। वह अपने हर गलत मकसद में सफल हो रहे हैं, लेकिन उनको पता नहीं है कि जनता सब देख रही है। विधानसभा चुनाव में उनको सारा का सारा हिसाब मिल जाएगा। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि आज किसानों के पास पैसे नहीं है, छोटे व्यापारी खत्म हो गए हैं। मोदी सरकार ने इन्हें बर्बाद कर दिया है। उन्होंने कहा कि अगर आप किसानों से पूछेंगे तो वह भी यही कहेंगे।

नोटबंदी से जनता हुई परेशान

राहुल गांधी ने नोटबन्दी करके प्रधानमंत्री पर देश के आम जनता को परेशान करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इनकी आदत हो गई है दूसरों को परेशान करने की। गरीब के साथ ही किसान भी काफी परेशान है, यह लोग उनकी परवाह न करके अपने दूसरे कामों में लगे हैं। अपना ही धन पाने को लोग कतारों में लगे रहे। उन्होंने दुकानदार कहेगा कि मोदी जी ने नोटबन्दी कर के हमें मार दिया। वहीं अब तो बच्चा भी नहीं कहेगा की किसी को लाइन में लगाकर भ्रष्टाचार खत्म होगा।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में युवाओं को रोजगार नही मिल रहा है। प्रदेश के किसी जनपद में चले जाइये, कोई रोजगार नहीं मिला है ।किसानों की फसलें बर्बाद हुई लेकिन मोदी ने कुछ नही किया। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने भाजपा पर कांग्रेस के किये गए काम पर अपना दावा करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी जी भाषण देते हैं लेकिन भाषण से गरीब का पेट नही भरता है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि विजय माल्या देश का गद्दार है, शराब बेचता है और लन्दन में बैठा है। पीएम मोदी उसका 09 हजार करोड़ का कर्ज माफ करने जा रहे हैं। इसमें से 1200 करोड़ रूपए माफ भी कर दिया है। उन्होंने कहा कि क्या विजय माल्या ने लोगों को रोजगार दिया? नहीं। राहुल ने लोगों से कहा कि अगर यही पैसा केन्द्र सरकार आपको देती, यहां नेशनल पेपर मिल को देती, फूड पार्क को देती, यहां रेलवे फैक्ट्री में लगा देती तो लाखों लोगों को रोजगार मिलता।

राहुल ने कहा कि मोदी सरकार पर यहां फूड फैक्ट्री के नाम पर राजनीति करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा वाले मुझ पर आरोप लगाये, कोई फर्क नहीं पड़ता। मुझे मजा आता है, लेकिन उन्होंने रायबरेली-अमेठी से फूड पार्क छीना, ये बात मेरे दिल में लगी। इससे मुझे चोट लगी।

उन्होंने कहा कि यह अमेठी और रायबरेली बदलने का काम था। इस काम को उन्होंने छीना, यह मुझे चुभा। उन्होंने कहा कि इस फूड पार्क से रायबरेली, अमेठी, मोहनलालगंज, सुलतानपुर, प्रतापढ़ के सारे जिले बदल जाते। 40 फैक्ट्री लगतीं। किसान अपना माल सीधे फैक्ट्री में बेचते, अचार, टूमेटो सॉ, चिप्स की फैक्ट्री लगती, लेकिन मोदी सरकार ने इसे यहां के लोगों से छीन लिया।